Thursday, 19 February 2015

----- ॥ उत्तर-काण्ड २७-२८ ॥ -----

सोम / मंगल , १६ /१७ फरवरी २०१५                                                                                

जर जर जब ज्वाल उत्तोले  । पुष्कल रकत कमल मुख बोले ॥ 

मोरे बान ए  तुहरी देही । खैंच तहँ सोन प्रान  न लेहीं ॥ 

सील बिरध सति पति पतियारी । करे कलंकित  को अस नारी ॥ 

परत जम पासल सो अतिचारी ।होइअहि जस गति के अधिकारी ॥ 

होही काल बस मम गत सोई । जो मोरे प्राण संच न होई ॥ 

पुष्कल करकत लाखे । रिपु दाल मुखिआ हँस अस भाखे ॥ 

प्रान गहि जग आनि जो कोई ।त्सु मारनी पुनि अवसिहि होई ॥ 

जो जुधिक जुद्ध  जुझावत मरे । सो काल पास के भय न करे ॥ 

 जो में काटि न नीबेरौं,  तुहरे छाँड़े बान । 
हे रन प्रनत अजहुँ मोर , प्रनदित प्रन लो जान ॥  

तीरथ सेवन कोउ  उछाहे । जो अस उछाह नासन चाहे ॥ 
तासु किए पातक निज सिरु लिहौउँ  । लिए सों मैं भंजत देखिहौउँ ॥ 

अस कह चित्रांग मुख उरगाए । त करस कुसा कर चाप चढ़ाए ॥ 

जो मोरि भगति प्रभु पद चीन्हि । कपट हीन जो बंदन कीन्हि ॥ 

जो मम हिय मम तिय अपराई । करे बिचार न कोउ पराई ॥ 
मोरे कहे बचन सत जोहीं  । किए जो प्रन सो साँचहि होंही ॥ 

अस कह काँति मती के कन्ता । करम कार्मुक गहै तुरंता ॥ 
मर्म भेद एक बान  संजोई । जोइ अगन जस तेजस होई ॥ 

भर भारौ उर भान जब छाँड़े सूल प्रचंड । 
चित्रांग चाप चपल तब , काटि करे दुइ खंड ॥ 

बुधवार,१८ फरवरी, २०१५                                                                                                    

भयउ रन भुइ कोलाहल भारी । बरखि धूरि कीन्हेसि अँधियारी ॥ 
पुच्छल भाग मुख सोंह निबरे। घर्घर करत  घुरमत जब गिरे ॥ 

पूरबारध भग फल जोहीं । रिपु दाल पति पर बेगि अगौहीं ॥ 
भयउ अरध सर धारा सारी । चतरंग कंठ काट निबारी ॥ 

कटे सीस भुइ निपतै कैंसे । कटत निपति नलिनी रूह जैसे ॥ 
निपटे कतहुँ किरीट कमंडल । निपत सोहि जस सस भू मंडल ॥ 

चित्रांग धरनि पारी जब देखे । पुष्कल कलिक ब्यूह प्रबेखे ॥ 
बीर कलाप कटक भट घेरे । किए जय जय नज गंजन केरे ॥ 

दरसी सुतन्हि सुबाहु जब, भयऊ प्रान बिहीन । 
सोकारत अस तरपे जस तरपत जल बिनु मीन ॥ 

बृहस्पतिवार, १९ फरवरी, २०१५                                                                                                

तेहि काल निज रथ कर कासे ।आगत दुनहु कुअँर पितु पासे ॥ 
प्रनत सीस अवनत चरन गहै ।सुरीत समयोचित बचन कहे ।। 

 हमरे जिअत गहै दुःख भारी ।बीर करम गति होत  प्यारी ॥ 
चित्रांग रन रँग लौहु बजाए । संग्रामाँगन बीर गति पाए ॥ 

मात भ्रात भट पितु अनुरागी । धुरंधर सो धन्य के भागी ॥ 
महमते अजहुँ सोक निबारौ । बीर तनुज हुँत दुःख नहि धारौ ॥ 

महमन हमहि रन आजसु दाएँ । आपहु चित रन रंग रंगाएँ ।। 
बाँध जिआ धनु बान सुधारे । तनुज बचन सुनि सैन सँभारे ॥ 

सोकाकुल उर घन जानि दमकत पानि कृपानि । 
तूर चरन राजन संग, तमकत रन भुइ आनि ॥ 

शुक्रवार, २० फरवरी, २०१५                                                                                                    

कर सरासन  सर भरे भाथा । आए कुँअर दुहु पितु के साथा ॥ 
कोटि कोटि भट भरे पूराए । जीवट उत्कट कटक भितराए ॥ 

निज निभ बाहु बली अभिलाखे । रन रंग रंजन भनिति भाखे ॥ 
नील अतं भए बिचित्र प्रसंगे रिपुताप सन दमन रन रंगे ॥ 

सुबाहु हिरन स्यंदन जोइहि  । रनत रन सत्रुहन सोंहु होइहि ॥ 
पानि भुगत कृपान चहुँ फेरे । घेरे जिन्हनि बीर घनेरे।। 

सुबाहु घेर बिभेदन लागे । हनुमन सत्रुहन रच्छन  भागे ॥ 
भुज दल सिखर सागर बल धरे। घन सोह मुख घन गर्जन करे  ॥ 

तेहि  अवसर सुबाहु दस कठिन बान संधान । 
छूटत बेगि सरसर चर  देइ चोट हनुमान ॥ 

शनिवार २१ फरवरी, २०१५                                                                                                   

अतीव तूर उपल उर छोड़े । बीर भयंकर तृण करि तोड़े । 
जिन्ह कहत बली बिनहि तुलाए । झपट रउ रथ पूँछ लेवाए ॥ 

लपट बेगि लिए चले अगासा । नाहु नयन छत छाए हतासा ॥ 
बिचरत गगन हिरन रथ संगा । पाँख बिहूनइ भयउ बिहंगा ॥ 

रथ जहँ तहँ रहेउ रहि अबलम्बे। भावइ सर गहि बाहु प्रलम्बे ॥ 
मर्म अघातक पीरा दायक । छाँड़ेसि तुर तेज मुखि सायक ॥ 

भए बिहनत जब बारहि बारा ।किए हनुमंत अक्रोस अपारा ॥ 
धरि लात एक नाहु उर मारा । परेउ घात जनु बज्र प्रहारा ॥ 

गह अस तेज अघात,छतबान मुरुछा गहन किए । 
आँगन होत निपात, तपत रुधिर मुख बमन किए ॥  


रविवार, २२ फरवरी, २०१५                                                                                               

हरिअर हहर साँस भर काँपे । अचेत नयन सपंन बिअ बाँपे ।।  
श्री राम छबि इब अंकुर राजे । पख मख मण्डप भीत बिराजे ॥ 

भयउ रजनि कन जगन्न केरे । कांटी कर रहि चहुँ दिसि घेरे ॥ 
कोटिक ब्रम्हांड के प्रानी । ठाढ़ि रहे तहँ जोरे पानी ॥ 

ब्रम्हादिदेउ सहित मुनीसा । किएँ बर अस्तुति अवनत सीसा ॥ 
रमा रमन के कमल नयन के । श्री बिग्रह घन स्याम बरन के ॥ 

बोलत  कल भूषन भए भृंगा । मुकुलित हस्त धरे मृग सींगा ॥ 
सुजस गान कर बाजिहि बीना । भयऊ भिनि भिनि भीनी भीना ।। 

बेद  मूर्ति मान होत  प्रगसे सगुन सरूप । 
राजन के सपन दरपन, दरसिहि छटा अनूप ॥  

सोम /मंगल  २३/२४ फरवरी, २०१५                                                                                 

करत भनित प्रभु चरन अराधएँ । तपो निधान रूप जस लागएँ ॥ 
जे जग जो किछु सुघर सँजोइल । देनहार श्री रामहि होइल ॥ 

कुजिहि कूनिका सहु छहु रागे । तबहि अचेत नाहु चित जागे ॥   
छाए मोदु मन गयउ प्रमादा । पुनि सत्रुहन पहि चले पयादा ॥ 

चरत चरत रन अजिरु महुँ आए । बिचित्र दमन रन रंग रंगाए । 
हाँक दिए तिन्ह निकट बुलायो । रन रोधन कारन समझायो ॥ 

बहोरि सुकेतु कोत बिलोके ।  करत सँकेतु अजुद्धिक रोके ॥ 
सपन दर्पन छबि लोचन छाए । कहि भै हमसों बहुत अन्याए ॥ 

चराचर जागती के जो स्वामी । जो परब्रम्हन अंतरजामी ॥ 
कारज कारन दुहु सोहि परे । तिन्ह के मेधिआ बाजि धरे ॥ 

सोई राम रूप भगवाना ।ए गूढ़ बचन अजहुँ मैं जाना ॥ 
मनुज गात गह लिए अवतारे।एहि अवनिहि हित हेतु हमारे ॥ 

पुनि सुबाहु सुत भ्रात सहुँ, बरनै सोई प्रसंग । 
असितांग मुनि को हाँस,भयउ जोइ तिन संग ॥    

बुधवार,२५ फरवरी, २०१५                                                                                             

निगदि नाहु कर कोमल बानी । सुनु सुत भ्रात ए बात पुरानी ॥ 
पैहन मैं सत सार ग्याना । पर हित हेतु तीरथ जिहाना ॥ 

देइ दरस मग मुनिबर नेका । धरम परायन परम प्रबेका ॥ 
भगवन मम कर औसर  देबा । किए असितांग मुनि के सेबा ॥

मो ऊपर किए कृपा बिसेषा । जति धर्म दिए मोहि उपदेसा ॥ 
जासु महत माहि अगुन अबाधा । बारे सिंधु जस बारि अगाधा ॥ 

जो सुभ सरूप रूप सँजोई ।     तासु नाउ परब्रम्हा होई ॥ 
जनक किसोरि राम की जानि । साखि चिन्मई बल गई मानि ॥ 

दुस्तर अपार संसार सिंधु पार गमन जो कोउ चहैं ।
सो जति धरमी सङ्कृत करमी हरिहि पदुम पद पूजतहैं ॥ 
चतुर्भुज रूपा महि भूपा जासु गरुड़ ध्वज धारी कहैं । 
दसरथ के अजिरु बिहारी सोई बिष्नु अवतारी अहैं ॥ 

तिन्ह भगवन भावनुरत पूजिहि जो नर नारि । 
भव सिंधु तर सो होइहि परम गति के धिकारि ॥ 

बृहस्पतिवार,२६ फरवरी, २०१५                                                                                                 

सुनि मुनि निगदन मैं उपहासा । भय भूप सो मोर सकासा ॥ 
राम मनुज सधारनहि होई । बिष्नु रूप हर सकै न कोई ॥ 

हर्ष सोक सागर जो गाहिहि । सो तिय श्री कैसेउ कहाही ॥ 
अजनमनी कैसेउ जन्माए । जगत अकर्ता जगत कस आए ॥ 

जासु आदि न मध्य अवसाना । अमित प्रभाउ बेद न जाना ॥ 
भब भब बिभब पराभब कारी । नयन भवन एक प्रश्न निहारी ॥ 

जूट केस उपदेसु मो कहहु  । सो राम बिष्नु रूप कस अहहु ॥ 
निगदित बचनन दिए जब काना । किए अभिसपत मोहि बिद्बाना ॥ 

पलक पयधि गह लगन हिलोले । धनुमुख बानि बान भर बोले ।। 
अधमी रघुबर रूप न जाने । बर मुनि कहेउ बचन न माने ॥ 

निदेउ मान सधारन भगवन मानस रूप । 
मोर संग प्रतिबाद किए समुझइ निज बर भूप ॥ 

शुक्रवार, २७ फरवरी, २०१५                                                                                                       

कहे ऐसेउ उपहास बचन । होइहु जहँ त  उदर परायन ॥ 
तुम्हारे सकल सार ग्याना । मोर श्राप सों होहि बिहाना ॥ 

सुन अस मम उर भए भय भीता । सकल सार ग्यान सों रीता ॥ 
धरा सीस धर मैं पग धारा । मुनिरु उपल मन बन द्रव धारा ॥ 

भरे भीत करुना के सागर । बोले अस मो  भर भुज अंतर ॥ 
रघुबर स्व मेध जब करिहीं । तुहरे सोहि रन बिघन धरिही॥ 

करिहीं घात बेगि हनुमंता । सुनु हे चकरनका के कंता ॥

तब तोहि होहि ए ग्यान राम रूप भगवान । 
न तरु निज कुमति संग तुअ, सकिहु न अजिवन जान ॥ 

शनिवार, २८ फरवरी, २०१५                                                                                                   

मुनि मनीषि मुख जो कहि भाखा । तासु भान होइहि मो साखा ॥ 
जाहु महबली रघुबर जी के । आनौ लेइ  है किरन गहि के ॥ 

सब धन सब साधन तीन संगा । मम राजित एही राज प्रसंगा ॥ 
करिहउँ में अर्पित भगवाना । कारन एहि मख धर्म प्रधाना ॥ 

दरस प्रभु मैं कृतकृत  होइहउँ । तिनके तुरग दए कर जोइहउँ ॥ 
सुबाहु सुत बर रीति रनइता । श्रुतु पितु बचन भए अति हर्षिता ॥ 

पितु जस रघुबर दरस  उछाहीं । मीचु मेहन मोद मुख छाहीं ।\ 
नयन गगन जल बिंदु हिलोले । भ्रात तनुज दुहु भीनत बोले ॥ 

हमहि कुछु अरु जानए नहि, एक तव चरन बिहोर । 
तुहरे दिनकर बचन किए हमरे तमि मन भोर ॥ 


रविवार, 01 मार्च ,२०१५                                                                                                    

जो प्रभु दरस के सुभ संकल्पा । तुहरे हरिदै जो किछु कल्पा ॥ 
अजहुँ सोइ सब होवन चाहिब । चहँहि हयहु रघुबर पहि जाइब ॥ 

तुम स्वामि तुम अग्याकारी ।हम तव सेबक हम अनुहारी ॥ 
तव अग्या जो जोइ सँजोही । अनुपजोगि सों जोगित होही  ॥ 

स्याम नील हरि मनि सम रतन ।हय हस्ति सोहि हिरन सयंदन ॥ 
गहि धन साधन लाखहि लाखा । सब द्रव प्रभु पद देइहु राखा ॥ 

हम सोन किंकर सकल तुहारे ।हमहि तिन्ह सन अर्पित कारें ॥ 
भयउ अभ्युदय सो सब लिज्यो ।रघुबर चरन समर्पन किज्यो  ॥ 

श्रुत सुत बचन सुबाहु मन भयउ हर्ष बहु भारि । 
बीर बलि बलिहार के , ऐसे गदन उचारि ॥ 

सोमवार,०२ मार्च,२०१५                                                                                                  

चँवर  ध्वज बर बाजि सुसाजे । बीर जुहा रन साज समाजे ॥ 
गहे कर अजुध बिबध प्रकारे । तुम्ह सबहि रथ घेरा घारे ॥ 

साजि राज गज सब ले लइहौ ।भोरि सत्रुहन पहि सन जइहौ ॥ 
कहत बहुरि अहिपत भगवाना ।सुबहु के निगदन दे काना ॥ 

बिचित्र दमन सुकेतु सरि धीरा । अन्यानै समर सूर बीरा ॥ 
प्रजा पालक अग्यानुहारे । गयउ सहरषित नगर पँवारे ॥ 

पयस मयूखी बदन मनोहर । रजत चंवर बर जोगित तापर ॥  
सुबर्नमय पत्रक लक लँकृते । अक्छत कृत तिलक लषन सहिते॥ 

चपल चरन स्याम करन,मनिसर माल सँजोह  । 
हय कर किरन पुंज धरे आनि प्रजा पति सोंह  ॥ 

मंगलवार, ०३ मार्च,२०१५                                                                                                

राजस्यंद जब सोहि देखा । सुबाहु बदन हर्ष अबलेखा ॥ 
दुहु सपूत  भट भ्रात प्रसंगे । सकल साज सँजोउ लए संगे ॥ 

चले पयादिक पंथ अधीसा । नयन अवनत बिनइबत सीसा ॥ 
सत्रुहनहि पदक पुर अस धूरे । भोर भूरे जस साँझ बहुरे ॥ 

जीवन साधन छन छबि जाने । तासों अनुरति दुःख गति माने ।। 
जोइ नसावनि पथ ले गवने । सो धन सम्पद् सहुँ  लए अवने ॥ 

सत्रुहन नियर अगत का देखे । बरे बपुरधर बरन बिसेखे ॥ 
पीत बसन बल बल्गन बासे । उपपंखि निबासे 

भरे भेष भुज सिखर बिसाला । हरिद पलासिक लावनि लाला ॥ 
कूल  कलित कल खंकन बाजे । मनियारि मंजरी बिराजे ॥ 

अवनि चरन अरु गगन पताका । निश्तेज भुवन तमक तकि ताका ॥  
सोहि उज्जबर छतर छाँउकर । तेज द्युतकर सोहि सुहाकर ॥ 

सोहि सो सुमति अस्थीर सब भट तीरहि तीर । 
श्री राम कथा बारता, पूछ रहे महबीर ॥  
बुधवार, ०४ मार्च, २०१५                                                                                                            

सत्रुहन कुल दीपक सम लस्यो ।सुहा द्युतिस के सम बस्यो ॥ 
बिलोकत बीर बलि बाँकुर पुर । भय मुख आपहि भयउ भयातुर ॥ 

दरसत तिन्ह सुत भ्रात सहिता ।सुबाहु रोष भए रनन रहिता ॥ 
प्रसारित कर मुख रघुबर नामा ।गहे चरन पुनि करे प्रनामा ॥ 

रोम हरष तन चित हरि चिंतन  । नयन छटा छबि भाव बिहल मन ॥ 
सत्रुहन मित सम समदन बाढ़े ।  रामानुज उठ आसन छाँड़े॥

समदन सब सहुँ बाहु पसारे । प्रमुदित समुदय लेइ सकारे ॥ 
राउ भयउ बहु भाव बिभोरे । धन्य धन्य मैं कहि कर जोरे ॥ 

पलक पयस पखारी के पूजत पद भल भाँति । 
समद समर्पन कर के, छाए बदन कल काँति ॥ 

बृहस्पतिवार,०५ मार्च,२०१५                                                                                                 

गदगद गिरा पेम रस साने । कहत कोमली करुन निधाने ॥ 
जो पद जग अभिनन्दन होंही । मिले भाग सो परसन मोही ॥ 

तरसहि पावस पुरी पँवारे । अहो भग तव चरन पधारे ॥ 
मोर सुत दमन बयस न सोधा ।प्रभि अजहु सो भयउ अबोधा ॥ 

मम सुत बालक आपु सयाने । बाँधे बाजि तिन्ह छम दाने ॥ 
जो सब देवन्हि देवल हारे ।जग सर्जनित पाल संहारे ॥ 

जान बिनु जग सिरोमनि नामा । कौतुकी करात किए एहि कामा । 
राज सैनि रन सज सँजोई । सकल अंग बहु अंकक जोई ॥ 

भरे पुरे एहि राज के, अहैं भूति जो कोइ । 
मो सहित मोर सुत भ्रात,सब आपहि के होइ ॥  

शुक्रवार,०६ मार्च, २०१५                                                                                                       

कहै सुबाहु पुनि चरन गहि के । श्री राम स्वामि हम सबहि के ।
बिभो अग्या मैं सिरौ धरिहउँ । तुहरे मुख के कहि सब करिहउँ ॥ 

समदत मम सब समद सकारा । भयउ मोहि पर बहु उपकारा ॥ 
सिय पिय पुरइन चरन रमन्ता । अहइँ कहाँ  मधुकर हनुमंता ॥ 

प्रभु दरसन धन साधन सोंही । तासु कृपा सों मेलिहि मोही ॥ 
तिन्ह अवनि का का नहि मेले । साधु सुबुध मेलिहि जो हेले ॥

 संत प्रसादु मैं लेइ पारा । होइहि श्रापु संग उद्धारा ॥ 
जिन्ह भगवन के जसो गाना । कहिहि सुनिहि नित संत सुजाना ॥ 

मोरे दरपन लोचना तिनके दरसन जोहि । 
तौ छबि मंगल मूरती, अंतर दोहर होहि ।।   
                                  
रविवार , ०८  मार्च,२०१५                                                                                          

बितिहि बयस प्रभु दरस बिछोही । सेष माहि कास दरसन होहीं । 
परसत जिनके चरन धूलिका । मुनि पतिनिहि  रूप भयउ सिलिका ॥ 

जो जोधिक प्रभु बदन लखाइहि । जुझनरत सो परम गति पाइहि ॥ 
जो रसना पर्भु नाउ पुकारी । होइहि सोइ गति के अधिकारी ॥

जिन्हनि चिंतहि नित जति जोगी । पद अनुरत जत मनस निजोगी ॥ 
धन्य धन्य सो अबध निबासी । धन्य धन्य सो सकल सकासी ॥ 

जो बिभु बदन पदुम कर चिन्हे ।लोचन पुट  दरसन रस लिन्हे ॥ 
पुनि सत्रुहन अस बचन कहेऊ । नृप तुम बिरधा बयस गहेऊ ॥ 

एहि हुँत तुअ श्रीराम सहुँ, पूजनीअ मम सोहि  । 
करे समर्पन आपही  तुहरे बढ़पन होहि ॥ 

सोमवार , ०९  मार्च, २०१५                                                                                                

होहि जग सों ए राज । तुहरे भू के तुअहि अनूपा ॥ 
छतरी के एही कारज होही । किए उपनत रन अवसरु सोही ॥ 

यहू धन समदन लेइ बहोरै । अस कह सत्रुहन  दुइ कर जोरै ॥ 
अरु कहि सब रन साज समाजू । सं महि जावन मोर हे राजू ॥ 

होइहि सैनि समागम तोरे ।  तिनके बल बाढ़िहि बल मोरे ॥ 
साद निगान सुधि सत्रुहन जी के । सुंबाहु मन लागिहि बहु नीके ॥ 

तनुभव मस्तक तिलक धराई । जन पालक कर भार गहाई ॥ 
बहुरि महारथि संग घेराए । दाह करन सुत समर भू आए ॥ 

जब बिधिबत सब क्रिया किए  ते दुःख दिरिस बिलोक  । 
 नयन भयउ गगन बरखन छाए रहे घन सोक ॥ 

मंगलवार, १० मार्च, २०१५                                                                                                

लोचन पटल जल बिंदु झारै । रघुबर सुमिरन सोष निबारै ।  
सतत सुरति सब सोक दूराए । बहोरि सकल रन साज सजाए ॥ 

ले चतुरंगी  सैन बिसाला । रामानुज पहि आए भुआला ॥ 
गहि बल दल गंजन जब देखे । बाजि रच्छन गमन हुँत लेखे ॥ 

समर्पित सुबाहु किरन छाँड़े ।आन रघुबर सेन कर बाड़े ॥ 
दल गंजन कर गहिगहि आहू । बढे सत्रुहन सहित सब नाहू ॥ 

प्राची दिसि के देस घनेरे । सब कहुँ फिर चरनिन्हि फेरे ॥ 
तहँ रहि  भूरिहि संत बिबेका । रजै राज जग एक ते ऐका ॥ 

बर बर समर सूर संग पूजित रहि  सब नाहु ।
किरन गहन जुग बाहु बल गहे रहे नहि  काहु ॥  

बुधवार, ११   मार्च,२०१५                                                                                                   

को निज राज भूति दानए । को निज राजित राज प्रदानए ॥ 
को निज राज सिहासन देई । बिबिध बिधि अस चरन सब सेईं ॥ 

रुचत रवन रत सुनत मुनीसा । कहत बार्ता सतत अहीसा ।। 
हे मुनिबर पुनि पवन अरोहित । सुबरन पतिका संग सुसोहित ॥ 

पूरब दिसि जब भँवर बहुराए । तेजसी तुरग तेजपुर आए ॥ 
धरमक ध्वजा हीरू प्रसन्ता । रहे दयामय तहँ के कंता ॥ 

सदा संच के सरन जुहारै । किए न्याय तो धर्म अधारै ॥ 
जोइ अनी अरि नगरि नसानी । निकस सो नगरि नियरइ आनी ॥ 

चित्र बहु बिचित्र परकोट रचाए । भीत नागर जन बसत सुहाए ॥ 
भगवन के चरनन्हि रति राखै ।पेम प्रमुदित सबहि मन लाखे ॥ 

सत्रुहन दृग दरसत रहे देवल चारिहि पास, । 
खनखन खंकन गुँज रहे ,बास रहे सुख बास ॥ 

बृहस्पतिवार, १२ मार्च, २०१५                                                                                                

 सिउ संभु के सीस निवासिनी । सुरगार्मल श्री सुर कामिनी ॥ 
पौर पौर पथ पथ पबिताई । तरंगनी तहँ बहत सुहाई ॥ 

रिषि  महर्षि मनीषि समुदाई । तिनके कूल सुरगति पाईं ॥ 
हबिरु भवन तहँ घर घर होईं ।ह्वन योजन करें सब कोई ॥ 

हवन धूम घन पदबी पावै  । दूषक दूषित अनल बुझावै ॥
ऐसो  पबित पुरी  जब पेखे । सत्रुहन सुमति सन पूछ देखे ॥ 

सौं नागर जो देइ दिखाईं । तिनके दरसन बहु सुख दाई ॥ 
भयउ मुख मंजुल जासु महि के । सो नीक नगरि अहहि केहि के ॥ 

कहत सुमति महानुभाव, बुद्धि बल के निधान ।  
इहँ के राउ रहें सदा,गहे चरन भगवान ।।   

शुक्रवार, १३ मार्च, २०१५                                                                                                      

कोमल हिय हरि सुरति सँजोई । अबिरल भगति तासु पद होई ॥ 
जेहि कथा सुनीहि जो कोई । ब्रम्ह हंत सों मोचित होईं ॥ 

राउ नाउ जहँ लग मैं जाना । होइब श्री मान सत्यबाना ।। 
प्रभु बरग माहि परम ग्यानिहि ।  जागइक के सब अंग जानिहि ॥ 

महोदय इहाँ पूरब काला । रहे ऋतम्भर नाउ भुआला ।। 
अस तौ तिनकी बहु तिय होइहि। जने न कोऊ जनिमन कोई ॥ 

को सुभागिनि गर्भ न गाही । पलाऊ रहेउ को सुत नाही ॥ 
एक बार सुभाग सों  दुआरे ।  देबबस मुनि जबालि पधारे ॥ 

अर्थ धरम कामादि प्रदेसे । समउ अनुहर सेवैं नरेसे ॥ 
होतअगुसर चरन सिरु नायउ । निज सुख दुःख के मुनिरु सुनायउ ॥ 

पुत्र काम पर जोग कहत पूछे तासु उपाए । 
महिपत मन गलानि जान,मुनि बहु बिधि समुझाए ॥ 

शनिवार, १४ मार्च, २०१५                                                                                                    

 प्रजापति पुनि पुनि पूछ देखे । कोउ त जुगति मुनि मोहि लेखे ॥ 
जात जनित जो होए सहाई ।  कहौ कृपानिधि को उपाई ॥ 


दिष्ट बिधा जिन करिए प्रजोगे । मम कुल तरु नव साख सँजोगे ।। 
सुनि अस मुनि एहि बचन उचारे । होही सिद्ध सुत काम तुहारे ॥ 

जोइ जनित जनिमन जन चहहीं । त्रिबिध उपाउ तासु हुँत अहहीं ॥ 
गिरि पति श्रीधर एक गौ होइहि । तीनि कृपाकर जिन सिरु जोइहि ॥ 

ऐसेउ कृपा जुगति प्रजोगिहि  । सो अवसि जनित  पद सुख भोगिहि  ॥ 
भयउ उपजुगत तव हुँत राजन । देऊ सरूपा गउ के पूजन ॥ 

गौ मात के सकल अंग  सुर के होत निकाए । 
एही कारन तासु पूजन, संतति के बर दाए ॥ 

रविवार १५ मार्च, २०१५                                                                                                 

चतुस्तनिहि पूजन परितोखा । देऊ पिटर सब बिधि संतोखा॥  
ब्रत पात जो गौ गुन गावै । नेम सहित नित भोजन दावे ॥ 

होयब  सकल मनोरथ पूरन । ऐसेउ सत्कर्म के कारन ।।  
त्रिसलु गउ जिन भवन बँधइहै । ऋतुमती कनिआँ बिनहि बिहइहै ॥ 

देंवन्हिबिग्रह चढ़े चढ़ावा ।दिवान्तर सुबह गति नहि पावा ॥ 
एहै करनी अस दूषन आनी । किए सत्कर्म सब धर्म नसानी ॥ 

चरत चरान जोइ अबरोधे । जानपनी हो हो कि अबोधे ॥ 
तासु पितर जन जोइ पद पाए । एहि करनी ओहि संग गिराए ॥ 

को कुबुद्धि कर धरे लकौटी । जान गँवारुहु मारए सौंटी ॥ 
ऐसेउ पापक बिनहि हाथा । परि जम पुर निज पातक साथा ॥ 

को कंठी पासा कंटक डाँसा पीठ करन चरन भरे ।  
तिन्हनि कर सो हर करुनी ऊपर  करुना  कर पीर हरे ॥  
गहि रुधिरु सोषिता करत रहिता गौ मात जी साँत करे ।  
भए रोग अधारे करिहउँ उपचारे गहन घाव तन धरे ॥  

ऐसेउ कृत करम संग पितरु उंच पद पाएँ । 
हॉट कृतारथ आपने बंसज असीरु दाएँ ॥ 













   
























  




 





Wednesday, 18 February 2015

----- ॥ टिप्पणी १ ॥ -----

ऐसा करते हैं देश के करदाता कर न दे कर प्राइम मिनिस्टर व् उनके मिनिस्टरों को कच्छे बंडी, चोगे,  कुर्ते चादर उपहार में दे देते हैं फिर वो उसका उपयोग कर बोली लगाएंगे, दस टके का कच्छा दो सौ में बिकेगा..... देश का कर कोष भर जाएगा और आयकर विभाग की भी आवश्यकता नहीं होगी है ना.....

हम लोग न नेता-मंत्रियों को ऐसेई चौपट राजा नहीं कहते..... 
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
राजू : -- मिडिया के केमरे भी ऐसेई दिखते हैं..... इस विधि से इन नेताओं को मारना कितना सरल 'था'.....
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------
दिल्ली से उसका जी डी पी पूछो तो कहती है जी डी पी.....!!! वो क्या होता है.....? 
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
राजू : - मास्टर जी! ये इतनी सारी गाड्डियों में भर के क्या ले गए थे..? 
"शिष्टाचार और ईमानदारी "
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सत्ता के लड्डू को ललहे के जैसे खाने से शुन्य वाला रोग हो जाता है.....
-------------------------------------------------------------------------
सम्प्रदाए किसे कहते हैं.....? 
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
शिखर पे चढ़ के  ईमानदार को पहले सबसे ज्यादा बेईमान से मिलना चाहिए सबसे ज्यादा ईमानदार से नहीं.....
----------------------------------------------------------------------------------------------
अर्थात देश की अर्थ व्यवस्था अब ईंधन पर निर्भर  हो गई और ईंधन अरब के शाहों के पास है.....  ई बिजनेस किलास किसको बोलते हैं तनिक हमें भी तो बताइये.....और उ केटली किलास.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------
यदि हैंडिल वाले पिलासटिक के थैले प्रदूषण करते हैं तो बिस्कुट-भुजिया वाले क्या करते हैं.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------
ये सभी हज़ारी-कमान के छूटे हुवे तीर हैं.....
------------------------------------------------------------------------------------
प्रेम तो एक मंत्री जी नै किया था ओर किसी नए थोड़े ही किया था,
प्रेम सै तो एक मंत्री जी के बालक हुवे थे औरा के तो पूंची बाँध बांध के हुवे थे.....
--------------------------------------------------------------------------------------------------
महादलित अपने इस लड़के के लिए लड़की काहे नहीं देखते, बिहा के बाद ही सही इसको आटे-दाल के भाव तो पता चले.....
-------------------------------------------------------------------
कमाल है ! ये बम दीवाली में आया और बिना फूटे ही चला गया.....
----------------------------------------------------------------------------------------
गुंडों का अउ फूलिस का गठबंधन कोन्हु नई बात है का.....
इस गाने में ये वाला सुर नहीं लगेगा.....

एक बात तो बता तू ट्रेकटर ही पैदा हुवा था की पहले नैनो होके फिर ट्रेक्टर बन गया
मेरा कर्जा तेर से ज्यादा है कोई और दरवाजा देख.....
-----------------------------------------------------------------
इसको त ऐती-तेती पिला डारे के ही बुता हे काय.....
पुष्प सदैव कोमल ही होता है हम गूँथ कर उसे कठोर बना देते हैं.....
-----------------------------------------------------
आतंक का कोई धर्म नहीं होता आतंकी का होता है, आगे का पता नहीं
 माने  की अभी तक तो होता है आगे का पता नहीं.....
------------------------------------------------------------------------------
विद्यमान में समाचार पत्र अश्लील सामग्री हो चले हैं बच्चों को इस सामग्री से दूर रखना चाहिए
ये इलेक्ट टॉनिक  मीडिया जो कभी मैक्सी थी ही नहीं मिनी से माइक्रो हो गई है.…. भारतीय समाज की दशा बताती है आजकल..... दिशा भी दिखाती है अब कोई इसको देखे की दिशा को देखें

राजू : -- चौबीस पच्चीस की होगी नई इससे पहले बुलेट की रफ़्तार वाली बुले-टिन थी ये.....
--------------------------------------------------------------------------------------
सभी राष्ट्र इण्डिया वाली  डी बी टी, डी पी टी की पहल योजना चालु कर देते हैं उनके राष्ट्र में कालाबाजारी समाप्त हो जाएगी.....है न.....ये काला-बाजारू की कलाबाजारी है..... 

लूटक लूलू लूमरे दलों के लेखों को चूहे बिल्ले खा जाते हैं.....


--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
तंबूरा सितार जैसा एक बाजा है जिसमें दो तंतु होते हैं , तानपुरा सितार जैसा बाजा नहीं है वो तम्बूरे जैसा बाजा है.....कदाचित इसमे तीन होते होंगे.....


गोविन्द मेरो है न गोपाल मेरो है, 
आधा .....न…न.…न पूरो माल मेरो है.….  

राजू : -- ले ओर सुण ले परबचन 
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
हाँ और बैंक ८००००००० * १००००० इतनी बीमा की रकम कित्त लावेगी.....जब बिम्मे का भरोस्सा नई तो बैंक का के भरोस्सा.....ठन ठन गोपाल हो जाओगो.....
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मिडिया गलफरैंड हो गई प्रधानमंत्री जी की.....ये कितने करोड़ की है.....?
यदि मिडिया बोले भ्रष्टाचार नहीं है तो बोलना नहीं है.....नहीं तो.....!!!!

एक बार दिखाया तो 'ख़ास' हो गए दो चार बार में जाने क्या हो जाएँ.....? ऐसे बनता है महाराज का मंत्री मंडल.....

और फिर वह महाराज कब द किंग आफ इण्डिया बन जाता है पता ही नहीं चलता
मेक इन इण्डिया, साइन इन इण्डिया फिर इनका थीम सांग हो जाता है


-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
हमारे न एक ठो और रिस्तेदार हैं.....छोडो इन लोगन को चड्डी पहनना हमई लोग सीखाएं हैं.....

भारत में चड्डी पहनना माँ सीखाती है इण्डिया का पता नहीं.....तेरे को किसने सीखाया है.....?  

ऐसे मर्दों को ही माँ  बहन का फर्क पता नहीं होता इनके लिए ये बस औरत हैं ये ही इंडियन हैं जो भ्रूणका भक्षण भी कर लेते हैं.....


-----------------------------------------------------------------------------------------------
अलीबाबा उदर हैं  होटल बाज इधर-किदर हैं.....
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
राजू : - जहां महारानी हो वहां.....
लुगाइयों के जैसे लड़ते हैं लोग.....हैं क्या ये.....?

राजू : - मास्टर जी ! मैं मैं कर रहा है बकरा या बकरी में से कोई एक है..,

" अम्मा तो इसकी अम्मा ही होगी कब तक ख़ैर मनाएगी.....इसका भी वही होना है जो बाकियों का हुवा है.....

हमरे न एक ठो रिस्ते दार हैं वही हवेली वाले, बैंक उन्हें किसान कहता है खेत है केतना बेच दें फिर भी रहते ही हैं पहले धान भी होता था घर भी आता था, अभी भेंट नहीं हुई होता है की नहीं पता नहीं बैंक से ऋण लेते थे अब पता नहीं लेते हैं की नहीं बहुंत बार  बिहा-सिहा के लिए भी लेते थे पढ़ाई-सढ़ाई के लिए भी..... वापस भी कर देते थे.....दुबारा लेने के लिए..... 

वोई तो बताते हैं किसानी वाली बात..... कहते थे अबके अगहन की बुवाई नहीं हुई डेमवा का पानी नहीं मिल रहा.….  

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
उस पेसाने-सलंडर को कोई घर की बही न दे..... देस की बही लिखने का काम उसे किसने दे दिया.....
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------
ऐ कामरस का फेलभर कहानी उदर है इधर नहीं हैं,

और हाँ हमरी तिजोरी ही उस तिजोरी को भरेगी पॉट्टी की तिजोरी से नहीं.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
"कैसी सेना है ये.....? इसको घूस पैठि को पकड़ने के लिए परमाणु गोले चाहिए"

राजू : -- मास्टर जी !  ये भी इंडियन गोरमेंट के जैसे काम कम करती है और टी बी में फिलिम ज्यादा दिखाती है.....

कैसी सरगम है ये किसी बाजे में बजती है किसी में नहीं..,
सरगम जब सभी बाजों में बजे गाने-बजाने वाला भी कुशल हो बजा हो विश्व तभी सुर में होगा.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
 " इसको तो किसी सरस्वती सिसु मंदिर में भरती कर देना चाहिए" 

राजू : -- काहे मास्टर जी ? 

 नीति और योजना में अंतर समझाने के लिए .....
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
देश काल व परिस्थितियां सत्ता धारी दल के पक्ष में है वह बहुंत कुछ परिवर्तित कर सकती है बहुंत कुछ परिवर्तन के लिए सर्वप्रथम उसे अपना प्रधान मंत्री परिवर्तित करना पड़ेगा और हमें स्वयं को ततपश्चात व्यवस्था स्वत:ही परिवारिति हो जाएगी.....
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
जनता ने जिन कारणों से पिछले शासन को पिछला किया अगले उन्हीं कारणों को सिर पे धरे हैं.., 
माई बाप जिस निर्धन को चार सौ रुपय का ईंधन क्रय करने में कठिनाई हो रही है वह अब  एक साथ एक सहस्त्र रुपया कहाँ से लाएगा.....

इनकी तो वही उजड्ड पालिसी है 'खाते खुलवाओ -सेठ बन जाओ'
भई लेखा बही रखने से कोई सेठ  होता है क्या होता हो तो सारा जगत रख ले.....

----------------------------------------------------------------------------------------------------
क्या करें ! अंतर की दृष्टी और कुछ देखने नहीं देती, भगवान करे ये दस बीस साल और न मरे.....
--------------------------------------------------------------------------------------------
ये नेता केवल अपने दल के रत्न होते हैं इन्हें परिणायक-रत्न  कहते हैं । भारत के वास्तविक रत्नों को पुरस्कार  की आवश्यकता नहीं होती.....

अँगरेज यदि वो नहीं लौटाएंगे तो हम इनको छोड़ आएँगे.....
--------------------------------------------------------------------------------
हमरे छेत्र मा तो यह एक धंधा है, अभी कुछ मंदा है काहे की दरवाहा शिकारी मर गया न.....इसीलिए.....
------------------------------------------------------------------------------------
श्रीमदपद्म पुराण में सूत जी भारत वर्ष की सीमाओं का वर्णन करते हुवे कहते हैं : -- यवन, कम्बोज,कृघृह,पुलट्य, हूण, पारसिक ( ईरान )  दशमानिक इत्यादि अनेकों विदेशी जनपद हैं.....

प्रचन जनगणना के अनुसार एक जनपद की जनसख्या कितनी होगी.....?
----------------------------------------------------------------------------------------------------
सत्ताधारी दल अपने नेता व् प्राइम मिनिस्टर को सीमाओं पर  और मतदानों केन्द्रों में चलने वली गोलियों की भाषा अंतर करना समझाएं.....तभी इसे अपने-पराए, पक्ष-विपक्ष, भाव -अभाव, में अंतर समझ आएगा.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------
कौन था वह राष्ट्रद्रोही निर्मोही मंत्री जिसे इस राष्ट्र से अधिक अपनी बेटी प्रिय लगी.....
----------------------------------------------------------------------------------
'इंडिया' की न्याय व्यवस्था ऐसी ही कि आप आतंकवादी भी क्यों न हों आइये, सॉरी कहिए और फिर अपने काम पर लग जाइए.....

आह ! इतना शोक ! 'इंडिया'में तो मृतक के परिजन को दो चार लाख दे के चलता कर देते हैं  । 

भारतीयों का  बचपन कुपोषित है भूखा है और भारतीय के धन से ही  प्रधान -सेवक इंडियंस के लिए हेलीकॉप्टर की फैक्टरी लगाएंगे.....उजड्ड कहीं के.....

और यह इंडिया पहले प्राइम-मिनिस्टर का डिस्कवर किया हुवा है. 

भारतीय मत देते तो सांसद व् प्रधान-मंत्री को हैं किन्तु जीतते इंडिया  के एम.पी. व् पी. एम. हैं.....भैया ! इस्लाम -इस्लाम खेलना है तो फारस की खाड़ी में जा के खेलो न.....






इनको समांत-अपरान्त की चिंता है, अपने राष्ट्र की नहीं हैं..... 
वेदों के वर्त्तमान रूप के संकलन कर्त्ता कृष्ण-द्वैपायन ( महर्षि व्यास जी ) हैं.....

यह आश्चर्य का विषय है कि प्रथमतस इतनी समृद्ध भाषा संस्कृत का प्रादुर्भाव कैसे हुवा.....?
----------------------------------------------------------------
लोक राज दुइ तंत्र दुहु बरे बिपरीत रीति । 
एक राजा हित नीति किए दूजी जन हित नीति ।। 
 भावार्थ :-लोक व् राज ये दो तंत्र हैं दोनों की विपरीत रीतियाँ हैं,एक में राजा हित की नीति का तथा दूसरी जन-साधारण के हित की नीतियों का वरण  करती है ॥ लोकतंत्र में देश-निवासी महत्वपूर्ण होते हैं, क्योंकि यहन यदि एक मंत्री मर जाए  तो सौ और जनम ले लेते हैं  राज-तंत्र में राजा की सुरक्षा की जाती है कारण यदि राजा सुरक्षित है तो जनता को भी सुरक्षित माना जाता है ॥ 

ये लोकतंत्र भी एक नई शतरंज है.....
यह अंतर्राष्ट्रीय कूटनीति नहीं है  यह विदेश नीति है और भारत की स्पष्ट नीति नहीं  है  कूट राजतन्त्र में विजय प्राप्त करने के चार उपायों में से एक है यह लोकतंत्र का उपाय नहीं है 
हाँ पहले समझया था वो शरहदों की शतरंज है चुनाव की ट्वंटी- ट्वंटी  
---------------------------------------------------------------------------------------------
जब झौंका कोई जुल्फ को हवा देता है..,
तिरे लरज़िशे-लबे-जूँ का पता देता है.....   

इंडिया का विकास - भारत का सत्यानाश 
 ----- ॥ साइनिंग इंडिया का लक्ष्य ॥ -----

-----------------------------------------------------------------------------------
मुट्ठीभर विलासित वंशवादियों के हाथ से यह भारत हिंदुस्तान कहलाता हुवा यमन के हाथों हस्तांरित हो गया, फिर कई आए कई गए अंतत: मुगलों की विलासिता  ( ऐय्याशी ) कारण यह इंडिया कहलाता हुवा अंग्रेजों  के हाथों हस्तारंतरित हो गया । अब यह साइनिंग इंडिया, इनक्रेडिबल इण्डिया कहलाता हुवा कलुष-योनिज के हाथों में है । ऐसी विलासित में पता नहीं अब इसे कौन क्या कहलवाकर हस्तांतरित कर ले.....  


अपवाद को छोड़ दें तो भारत की स्थापत्य कला मुट्ठीभर  यमन के विलासिता का ही परिणाम है । और ये उद्योग मुट्ठीभर अति उच्च धनीवँत की विलासिता का ही परिणाम है सौ दो सौ वर्ष पश्चात जब ऊर्जा के स्त्रोत समाप्त हो जाएंगे तब हमारी आने वाली पीढ़ियाँ इनपर थूकने जाया करेंगी.....


-------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------
हमारे देश में विश्व का सबसे मूल्यवान गृह व् गृहहीन जनता का होना शासकों की औद्योगिक दुर्नीतियों एवं किसानों के शोषण का ही दुष्परिणाम है..... 

इस सायनिंग इंडिया को तो ये भी नहीं कह  सकते कि जब चायवाला प्रधान मंत्री बन सकता है तो कवि क्यों नहीं.....रोड छाप को उठा उठा के प्रधान मंत्री बनाती है ये.....पांच साल बाद किसी ढोर डाँगर को ले आएगी..... 


-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
राष्ट्र-पति प्रधान-मंत्री से लेकर पार्सद तक धंधा करने के पद हो गए हैं अमीर हो या  फकीर यहाँ से सब अमीर बनकर ही जाते हैं.....दमड़ी आए चमड़ी न जाए.....ये कैसे हो सकता है..... 
------------------------------------------------------------------------------------------------------ भाई ! सिखर पे चड कै  झंडे तो सभी गाड़ गए कोई किम्मे ढंग का करे.....

बात बनने की नहीं है बन के क्या किया उसकी है..... तेरे आगे बीन कौन बजाए..... 


-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
वंश विरचन एक आनुवांशिक प्रक्रिया है सेवा एक कर्मगत प्रक्रिया है 


भगवान राम इसी वंशवाद की व्युत्पत्ति हैं जिनका नाम ले ले कर ये सभी सत्ता हथियाएँ  है अब इनको इस बंसबाद में बांस आ रही है.....
सिँहासन हथियावन कू  बोले जय जय राम । 


वास्तविकता यह है कि यमनों के हाथ में सत्ता जाने के पश्चात ही भारतीयों को वंश वाद से विरक्ति हो गई ॥ 
हर्यक वंश, शिशु नाग वंश, नन्द वंश, मौर्य वंश,  शुंग वंश, कण्व वंश, आंध्र सत्वाहन,शक राज्य, गुप्तवंश, वर्द्धन वंश, राजपूत वंश,   फ़िर आया महमूद गजनी साथ गुलाम वंश जो तुर्की का शासक था.....


------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
अब तो प्रत्येक औद्योगिक क्षेत्र विषैले प्रदुषण कारण त्रासदी के क्षेत्र हो चले हैं..... 
विद्यमान समय के भ्रष्टाचारी  वातावरण में व्यक्ति वादिता अथवा राज व्यवस्था की 

 यह व्यक्तिवाद अथवा राज व्यवस्था की स्वेच्छाचारिता  का है केवल एक व्यक्ति के लिए इतने बड़े दुर्ग का निर्माण । वह व्यक्ति फिर भी नहीं रहा किन्तु दुर्ग यहीं रह गया.....

भारत के राष्टपति की गतिविधियों का अवलोकन कर यह प्रतीत होता है जैसे ये राष्ट्-हित हेतु नहीं अपितु विपक्षी दल के हित हेतु प्रयत्ननशील हों.....  
--------------------------------------------------------------------------------------------
यदि हम अपना भंडार किसी अड़ोसी-पड़ोसी अथवा चाय वाले पानवाले को सौंपते रहे तो ये उसे विदेशों में रखकर  अथवा किसी को उधारी दे दा कर उसपर अपना कमीशन बना कर  चम्पत हो जाएंगे । पांच वर्ष पश्चात जब गुंडों की सभा बैठेगी, उठाई गिर्रों की कचहरी लगेगी तब ये कहेंगे ये तो 'मैं' ने किया हमने थोड़े किया है..... 

यह व्यक्ति वादिता का एक दोष है.....  
-----------------------------------------------------------------------------------------------
एक वर्ष में सेना के ऊपर २'२०'०००० लाख करोड़ रूपए व्यय करने वाले भारत-शासन की सत्ताधारी  पार्टियां अमेरिका के राष्ट्रपति से कहती हैं..... भैया भैया हमारे देशद्रोहियों को पाकिस्तान से ला दो न.....एक टुच्चे से संत को पकड़ने में ये तैंतीस करोड़ रूपए व्यय कराती हैं.....
------------------------------------------------------------------------------------------
सभी खैलों का यही हाल है.....

खैल = दल

इन झोला छाप जर्नलिस्टन से कोई बचाए.....

भारत में भाइट हाउस जैसे पांच  सात महल तो ऐसे ही पड़े हैं उनपर कोई थूकता भी नहीं है.....झंडा फहराना चालू कर दो तुम अपने भाइट किले से.....



-----------------------------------------------------------------
लो दर्द उधर वाले सहाबे-आलम को हुवा..,
और बैंक में डिस्को इधर वाले साहबे-आलम कर रहे हैं.....
----------------------------------------------------------------------------------------------
 ये केवल प्रशंसा के प्रशंसक हैं.....

------------------------------------------------------------------------
उद्योग जगत, नेता जगत, चित्रपट जगत, जन सामान्य की अति आवश्यकता, विलासिता, व् महति आकंक्षाओं का ही दुष्परिणाम है.....
----- ॥ अज्ञात ॥ -----
------------------------------------------------------------------------------------------
एक ये ही असंत है बाकी तो सारे संत-महात्मा हैं.....बंद करो ये तमाशा.....
-------------------------------------------------------------------------------
यह कुव्यवस्था का ही परिणाम है कि भारत में मदिरा अघोषित रूप से राष्ट्रिय-पेय घोषित हो गई है.....
--------------------------------------------------------------------------------------
वैदिक काल में देश/समाज को सुचारू रूप से संचालन के लिए वेदों ने चातुरवर्णिक व्यवस्था विहित की गई थी । बुद्धिजीवियों ने  निकृष्ट कर्म करने वालों को कहा ये काम छोड़ दो..... वे नहीं छोड़े..... कालांतर में जब जातियों का वर्गीकरण हुवा तब वही जाति निम्न जाति कहलाई.....

जैसे कि वर्तमान में नेता-अभिनेता जाति निम्न जाति हो गई है.....



------------------------------------------------------------------------------------
इनको खा के तो अग्नी  देव का भी पेट ख़राब हो जाएगा.....
इसको खा के तो अग्नि  देव का भी पेट ख़राब हो गया होगा....
-----------------------------------------------------------------------
यहाँ बिसात बिछ रखी हैं.....दम सूली पर चढ़े हुवे है.....जहाँपनाह उधर किधर ट्वैंटी-ट्वैंटी खेल रहे हैं.....
-------------------------------------------------------------------------------------------
यदि इच्छा धारी की इच्छा जाग गई न तो शेष सब अपनी हार की समीक्षा करते हुवे दीक्षा लेने हमारे पास आएंगे.....
------------------------------------------------------------------------------------
ये लो ! ये येलो न हुवा अल्बर्ट पिंटो हो गया.....
----------------------------------------------------------------------------------------
विचार इधर है धारा उधर है  पानी इधर-उधर है चारा जाने किधर है..,
पक्ष के साक्ष्य चूहे खा जाते हैं, विपक्ष के दीमक..,
 ऐसे चलेंगे ग़रीबों के साथ.....
-----------------------------------------------------------------------------------------
कितनी जेलें हैं सरकार के पास पहले गिण लें फिर कनून बनाएं.....
------------------------------------------------------------------------------
रै जनता जनार्दन, ये अपनी वाली को तो ले के उड़ गया तेरी वाली को काम बता गया

तू अपने इन पी. अम -सी. अम सालों की नसबंदी क्यूँ नहीं करता.....

बड़ा बड़ाई ना करे, छोटा बहुंत इतराए । 
ज्यों प्यादा फर्जी भया, टेढ़ो टेढ़ो जाए ।। 
----- ॥ संत कबीर ॥ -----
भावार्थ : -- बुद्धिमान आत्म प्रशंसा नहीं करते, किन्तु बुद्धिहीन अभिमानवश इठलाते घूमते हैं । जैसे किसी पैदल को यदि मंत्री का पद प्राप्त हो जाए तो वह अभिमान करते हुवे टेड़ा टेड़ा ( अकड़कर ) चलता है ॥
------------------------------------------------------------------------------
इफ़तदा-ए-इश्क़ है रोता है क्या..,
आगे आगे देखिए.....होता है क्या.....
----- ॥ नामालूम ॥ -----

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
" मगर बम तो पाकिस्तन में फूटा है..... " 

राजू : -- मास्टर जी  ! क्या है न पीने के बाद उधर का इधर दीखता है..... -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
इसीलिए माता जी! बहनजी! तनिक मर्यादा में रहिए.....सामूहिक बलात्कार हो जाएगा और पता भी नहीं चलेगा, काहे की छप्पन इंच बाले मर्दों का जमाना है.....समझो न.....

उ  प्रपोगैंडा की दूकान केबल डिराइबरों के बलात्कार ही दिखाती है 

हमारे देश में एक उड़ीसा नमक प्रदेश है वहां कब चुनाव हुवे कौन हारा कोई मंत्री संत्री बना की नहीं..... पता चला.....

---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
इस फूलन देबी के निसदिन नित नए क्रिया कार्यक्रम हो रहे हैं और प्रपोगेण्डा की दुकानें है कि न्योछावरी मांगने खड़ी ही रहती है, भावी प्रधानमंत्री जी ! कुछ दे दो.....  
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
यह सरकार अभी तो ठीक से आई भी नहीं है, और इनके विकास खंड स्तर के  कार्यकर्त्ता कारखाने लगाने की तैयारी कर रहे हैं यदि इतने निम्न स्तर पर इतने उच्च स्तर का भ्रष्टाचार होगा तो प्रधान मंत्री के स्तर पर जाने क्या होगा, क्या हमें यह स्वीकार्य होना चाहिए.....? 
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
लाभ के पद से तात्पर्य है, पदासीन को सेवा पारिश्रमिक रूपी दुग्ध के सह घूस घोटाले की माल-मलाई मिले..... 
जैसे : - गृह, वित्त, कोयला आदि मंत्रालयों में मोटा माल मिलता है.....

हमारे पालक/पूर्वज कदाचित निरक्षर रहे होंगे, किन्तु उन्हें धर्म ग्रन्थ हमसे अधिक समझ में आते थे.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
देहाती अर्थात गँवईं इनको गाली लगते हैं, नगर नागर मानद उपाधि लगते हैं, पलायन के गहन समर्थक हैं ये फिर तो सारे दिल्ली जा कर बस जाते हैं नगर नागरी हो जाते हैं.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------
उच्च जीवन एवं तुच्छ विचार से कोई भी पद गौरान्वित नहीं होता.....
-------------------------------------------------------------------------------------------------
पक्ष के नेता की माएँ और छठी का दूध.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------
व्यापार का गणित क्रय-विक्रय के सूत्र पर आधारित है । निवर्तमान सत्ता धारी दल ने सत्ता खरीदी थी तो प्रधानमंत्री भी एक एक करोड़ में बेचा था, अब की बार के दल उसे थोड़ा सस्ता करें जिससे की यह मध्यम वर्ग हेतु भी सुलभ हो.….
----------------------------------------------------------------------------------------------
पहले अपने आजू-बाजू देखो इन देशभक्तों का छोड़ा हुवा कोई आतंकवादी तो नहीं है,
कहीं फूट जाओ और पता भी नहीं चले.....
------------------------------------------------------------------------------------------------------
अभी तो कोई कुछ बना नहीं है, देश में भय का वातावरण व्याप्त हो गया.....
-------------------------------------------------------------------------------------------------------
किसी राष्ट्र की प्राकृतिक सम्पदा के अंधाधुंध संदोहन का दुष्परिणाम में सर्वप्रथम उसका जल सूखता है फिर जीवन.....

राजू : -- मास्टर जी !
 यह पावन धरा ऐसी उपजाऊ हैं कि यदि इसमें मरी हुई आत्मा भी बो दें तो वह भी वह भी जी उठेगी
----------------------------------------------------------------------------------------------------
उफ़ !!! फिर से वही नौटंकी, गुरजी ने ऐसी ही नौटंकियाँ कर कर के अंग्रेजों से सत्ता छीनी थी,  
और वो चेले !!  अरे वही छ दिसम्बर बाले , भगवान के धाम को इन्होने ने नौटंकियाँ कर कर के टंकी बना दिया था..... 
---------------------------------------------------------------------------------------------------------
चुनाव बुरा नहीं है चुनाव प्रणाली बुरी है लोग बुरे नहीं हैं लोगों की मानसिकता बुरी हैं ये देश सेवा को धंधा समझने लगे हैं.…. 

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

आह! ये होने बाली 'बि' पक्ष की दुर्नीति अर्थात संचय की नहीं व्यय की नीति..... 

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------


>> आप किस परिवर्त्तन का समाख्यान  कर रहे हैं, सामाजिक , भौगोलिक, सत्तात्मक अथवा कुछ और; कृपया स्पष्ट करें ।
>> 'राजनीतिक सत्ता' वो क्या है, मुझे राजनीतिकरण जैसे शब्दों से भी एलर्जी है, राजकरण का अर्थ न्यायालय  होता है.....
---------------------------------------------------------------------------------------------------
The Kohinoor always making the Britishers remember they are plunders.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
इन्हें जीव-जंतुओं पर हिंसा करने,  प्राकृतिक सम्पदाओं पर डाके डालने की पूरी छूट दी जाती है..... 
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
बड़े लोग चाय पीते है तो चीनी मीलों का उद्धार होता है.....अथवा किसी टाटा-फाटा का.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
आशा है 'प्रधानमंत्रीजी' अब माँ का पल्लू छोड़ देंगे और अपनेआप खाना सीखेंगे..... 

यदि न्यायालय न्याय की दूकान न होते तो चुनौती दी सकती थी.....   
-------------------------------------------------------------------------------------------------
रेल दुर्घटना में मारे गए जन रूप जनार्दन का कुछ पता चला.....?
------------------------------------------------------------------------------------------------
और इन्हें कहते हैं 'पडोसी की औलाद.....'
--------------------------------------------------------------------------------------------------
राजू : -- मास्टर जी ! लो ये तो बिना बुद्धि का प्रधान मंत्री बन गया, इस बुद्धहीन को मुख्यमंत्री किसने बनाया.....? 

'मंत्री बनने के लिए बुद्धि की चुनाव-फुनाव की आवश्यकता थोड़े होती है 'शपथ लो मंत्री बनो' 

राजू : -- मास्टर जी ! ये तो मस्त लोकतंत्र है.....
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
बावली बूझ इब झंडे-झंडे खेलना बंद कर कै कुछ काम कर..... 
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------
ब्राह्मण किसे कहते हैं.....? 
ब्रह्मतत्व के मीमांसक, धर्मपरायण , सात्विक स्वभाव वाले व्यक्ति को कदाचित संक्षेप में ब्राह्मण कहते है । यह लक्षण किसी भी धर्म के अनुयायी में हो सकते हैं.....
सही ज्ञान तो पशु भी दे सकते हैं..... हिन्दू-मुस्लिम की क्या जरुरत.....?
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
हाँ और एक राजसी भोज भी,
अरे राजा ! तू राजा भोज नहीं हैं, फिर काहे को इत्ते भोग करता है..... 
वैधानिक चेतावनी : -- अबसे सभी महिलाएं राजा को राजा-राजा बोलेंगी अन्यथा हश्र पता हैं न..... हम्म पता ही  नहीं चलेगा.....  
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
परसों आपने देखा : -- राजा -भोज-गंगू बाई और 'तेली..... 
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
एक राजा है एक पति है, फिर हम कौन हैं..... ? 
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
घणे बरसा पले की बात स, जब भारत की पावण धरती मैं  बेदों की रचना हो रही थी । रचैता ने रचते-रचते एक मिट्ठा लाड्डू भी रच दियो, कालांतर मैं सब उसने खान न ललाइत हो उठे  लड़-मरे जी मार काट मच गी  । फेर के एक देस था तातारी वठे बड्डे बड्डे लड़ाकू बसा करते थे, वे इनके बाप थे रुलते-रुलते भारत आ बसे ।  हजार साल तक बापगिरी भी दिखाई ओर लाड्डू भी खाया । फेर के इनके बाप के भी बाप आ गए,लाड्डू भी खाया और ऐसी दादागिरी दिखाई कि क्षीर समुन्दर म काला पाणी दिख्खन लाग्यो । फेर आया एक बाप्पू बोला लाड्डू तो मेरा स ; लत्ते कोणी पैरूँ पण लाड्डू खाऊंगा, पाणी कोई पीऊं पण लाड्डू खाऊंगा । बाप के बाप बोले रै मान जा पण मानो कोणी । 
                                फेर के वे सदका  उतारे ओर लाड्डू की वारफेरी कर चौराहे पे रख के चले गए । किस न ठाया बेरो कोणी ? कालांतर म फेर एक डबल सूगर वाली आई बोली तेरे तो सूगर स उसने वारफेरी कर के अररर्र चौराहे पर नहीं अपनी जेब मैं रख लियो । जेब थी फाटी दूसरा आया कौआ और चूहा की टोली बनाई पीसे दिए, बोला जा काट दे, काट दी, झोक लियो इब दिखावे स.....ये देखो लाड्डू.....
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
"तुम अपने  गिरेबाँ में झांकों तुम अपने में"ये छब्बीस जनवरी की झांकियां  वर्त्तमान /निवर्तमान सत्ताधारी दल स्वयं ही देखे । जनता आपको कर देती है, अपनी धरती देती है, अपने जंगल है, खेत देती है, नदी-पर्वत  देती है, आपको उत्तर देना होगा ..... 
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
 बेच दिया है देश को सत्ता के लालची इन दलों ने । अड़ोसी को हमारी प्राकृतिक सम्पदा बेच दी,  पड़ोसी को हमारी धरती, किसी ने अपने सर पर स्वतंत्रता मुकुट सजाने के लिए, किसी ने ने अपनी सेवा पुस्तिका में पुस्तिका में विजय उल्लखित करने के लिए, किसी ने अपनी क्षुद्र आवश्यकताओं की पूर्ति करने के लिए, किसी ने अपना स्वार्थ साधने के लिए ।  भारत का जो मानचित्र हमें दिखाया जाता है  वास्तविक आकृति अब वह नहीं रही, कुछ और ही हो गई है.....  
------------------------------------------------------------------------------------------------------------
राजू ! ये चायवाले भी अब बेचारे हो गए , मालुम उन्हें लोग क्या कहते हैं अबे ए प्रधानमंत्री चल दो चाय दे । 

राजू : -- मास्टर जी ! और प्रधान मंत्री को ? 

"वही, अबे ए चायवाले चल दो चाय दे....."
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मीडिया बनाम 'प्रपोगेण्डा की दूकान 'का आकार किसी सेना जैसा है इसके प्रत्येक सैनिक करोड़पति है केवल हवा से बातें करते हैं । दो तीन करोड़ रुपल्ली के बैलेंस शीट वाले प्रधान मंत्री  इन्हें अपनी कीर्ति गाथा गाने एवं दोषों को छुपाने के लिए कितनी धनराशि देते हैं, और यह धनराशि लाते कहाँ से है......?  
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
असवैधानिक विधि अविधान अंगीकार है.., 
दुराचरण, दंड दानव कुल हमें स्वीकार है.....  

दंड दानव कुल = अन्यायालय, कोठा बनाने वाले न्यायालय 
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
बोतल-बंद-पानी के पार्श्व-प्रभाव से उत्पन्न गंभीर रोग भी एक न एक दिन उजागर हो जाएंगे..... 
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मैने भी तीन साल तक खूब गुटके खाए.., 
अब तो तीन साल हो गए उसे खाना तो दूर उसकी तरफ देखा भी नहीं..... 

मेरी माता जी तम्बाखू घिसती थी, एक दिन कहीं प्रवचन हो रहे थे महाराज बोले कुछ दान करो, वो तम्बाखू का डब्बा दान कर आई, फिर क्या लत छूट गई..... 
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
उच्च एवं उच्चतम वर्ग के लिए तीन लाख हजार करोड़ की शाहे-सवारी, 
मध्यम वर्ग के लिए महंगाई, असाध्य रोग, प्रदूषण, और  न जाने क्या क्या ,
छी ! गरीब अछूत चायवाले कहीं के  ।  तुम्हारे बारे में लिखकर अपनी स्याहे-ताब को कौन खराब करेगा..... 
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
कैसे कैसे नमूने हैं, भैया पहले खेत ठीक कर, अन्न उपजा,फिर उसको खा फिर तो उस शौचालय  का उपयोग होगा  । लोडिंग तो कुछ नहीं अनलोडिंग की बात हो रही है...... 

एक और नमूना : --एक दिन को अपने घर की बत्ती बुझाओ-बिजली बचाओ  , भैया एक-दो ठो ऐसी-वैसी को हटा दे न.....   
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मेट्रो चाहिए कि बिजली-पानी ? 
बुलेट चाहिए कि हवा ?  वो आएगी तो ये भी नहीं मिलेगी..... 
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
पद पर आसीत हो जाने से कोई प्रधान मन्त्र नहीं हो जाता , जिसकी मंत्रणा राष्ट्र के सह विश्व की दिशा को निर्दिष्ट करे दे वही प्रधान मंत्री है..... 
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
 एक गाँव में दो मित्र रहते थे, एक शिव जी का अनन्य भक्त था अत: वह शिव मंदिर में जाकर नित्य प्रतिदिन लिंग पर जल चढ़ाता और दुसरा प्रतिदिन उन्हें एक डंडा मार के आता । एक दिन धारा प्रवाह वर्षा हुई  भगवान शिव जी उस के जा में डूब गए भक्त ने सोचा भगवान तो जल में डूबे पड़े है अब मेरा जल कहाँ चढ़ेगा सो वो उस दिन मंदिर नहीं गया डंडे मारने वाला गया ।  सोचा डूबा रहे तो  डूबा रहे मैं तो इसे डंडा अवश्य मारूंगा । शिव जी थे भोलेभाले सो डंडे वाले पर यह तर्क देते हुवे प्रसन्न हो गए कि यह जो भी कार्य करता है पूर्ण लगन से  करता है.….
                                     ( मेरी माता जी के कथनानुसार )
-----------------------------------------------------------------------------------------------
क्षमा कीजिए इनमें एक भारत के राष्ट्रपति थे, एक नोबल वाले थे, और एक बी एच यू वाले थे, शिक्षक कोई नहीं था.....इसीलिए कोई शिक्षक बनना नहीं चाहता.....
--------------------------------------------------------------------------------------------------------
" जासु राज प्रिय प्रजा दुखारी । सो नृप अवसि नरक अधिकारी ॥"
       ----- ॥ गोस्वामी तुलसीदास ॥ -----
अर्थात : -- जिसके शासनकाल में जनता दुखी हो वह शासक अवश्य ही दुर्गति के योग्य है ॥ 
----------------------------------------------------------------
"पल भर की खबर नहीं, सौ बरस का सामाँ.....
-------------------------------------------------------------------------------
अपुनेधरमु चरन रति राखें । अहहीं दोषु कछु सबहि साखें । 
कालप्रतिकुलसोइ निबेरे । बिसुद्धात्मन सोधन केरे ॥ 
भावार्थ : -- अपने धर्म के चरणों में प्रीति रखनी चाहिए । कुछ न कुछ दोष प्रत्येक धर्म में होता है ॥ जो देश काल के विपरीत आचरण करें उन दूषित विचारों का परिहरण कर उसे विशुद्धात्मान द्वारा समय समय पर उन्हें शोधित करते जाना चाहिए ॥ 

दृष्टांत : --  'बलि प्रथा अधुनातन काल के सर्वथा प्रतिकूल है" 
---------------------------------------------------------------------------------------
किसी फ़रमाँ बरदार का इंतकाल हो जाए ये मीडिया बनाम 'प्रपोगेन्डे की दूकान' ऐसे मरसिया पड़ते हैं जैसे इनके वालिद का इंतकाल हुवा हो.....
--------------------------------------------------------------------------------------
जानवरों की कोई मस्लहत नहीं होती, इस वज़ह से कि इनमें इंसानों जैसा दिमाग नहीं होता।इसलिए इनका कोई मजहब भी नहीं होता । इनकी नस्ल ( कुल, वंश, जाति ) जरूर होती है, गायोँ में जैसी जर्सी गाँय देसी गाँय वैगेरह, वैगेरह.....
--------------------------------------------------------------------------------
एक गंदा नाला बार बार बोले है 'गंगा' साफ़ करनी है, मैं बोलूँ पहले खुद तो साफ़ हो जा.....
-----------------------------------------------------------------------------------------
हम मत दें अथवा न  दें, किसी शासन व्यवस्था से संतुष्ट हों अथवा न हों , एक दिन ऐसा आएगा जब हमारे द्वारा अस्वीकार किए गए प्रत्याशियों का ही मंत्रिमंडल होगा, उन्हीं के हाथों में सत्ता का सूत्र होगा, वही इस 'जनतंत्र' को संचालित करेंगे.....

काँकर पाथर जोरि कै, महजिद एक बनाए ।
ता चढ़ मुल्ला बांग दे, बहरे हुवे खुदाए ॥
----- । संत कबीर ॥ -----
-----------------------------------------------------------------------------------------------
अभाव ग्रस्त जनता जनार्दन के भाग्य में तो फल-फूरूट के चित्र भी नहीं है..,
एक ही कार्य होगा, नेता-मंत्री मलाई बाले विभागों की मलाई खाएं अथवा अभाव ग्रस्त फल फूरूट.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------
कच्चे घरों में फिर रहते क्यों नहीं..?
निर्मल है नदिया फिर गहते क्यों नहीं.....
---------------------------------------------------------------------------------------
भई भारतीय दंड सहिंता की धारा २९५ के अंतर्गत "किसी धर्म या वर्ग का अपमान करने के उद्देश्य से अथवा  पूजा-स्थली को क्षति पहुंचाने  अथवा करने का प्रयास करना । ऐसे अपराध हेतु दोनों में से किसी भाँती के कारावास का दंड जिसकी अवधि दो वर्ष तक या अर्थदंड या दोनों से दण्डित किए जाने का पहले से ही प्रावधान है

गंगा उसका कोई भी तट  अन्य धर्म के अनुयायियों हेतु आदरणीय है किन्तु हिन्दू धर्म के अनुयायियों हेतु पूज्यनीय है.....

इसी लिए पहले अपना सिर,  फोड़ फिर भारत के लोग इस बावली बूझ को बावली बूझ कहते बुरे लगे है.....

इत्ते बड़े बड़े अफसर इत्ते बड़े बड़े उकील को मंत्री इस बावली बुझ को ये छोटी सी बात नहीं बताते बस फ़ोकट  का खाते हैं.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मुझे उन छात्रावासीय पाठशालाओं की सोच पर क्रोध आता है,जहां जीवों पर हिंसा करते हुवे  मांस -आहार परोसकर फिर बच्चों को अहिंसा का पाठ पढ़ाया जाता है..... 
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
कृषि कर्म के अनुकूल जलवायु के कारण भारत कभी कृषि प्रधान देश रहा था । जलवायु तो वहीँ रही किन्तु प्रधानता नहीं रही । ऐसे देश के नौनिहाल यदि कुपोषित है तो इसका अर्थ हैं यह पोषण, भ्रष्टाचारियों  एवं भोग विलासिता के उदर में पूजित हो रहा है..... 
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
प्रधान मंत्री जी ' लघुशंका भी जाते हैं तो मीडिया बनाम प्रपोगेण्डा की दूकान को साथ लेकर जाते हैं......
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
तू कुछ भी नहीं है, धरती का बोझ है बस तू.....भाई-बहन को नहीं छोड़ रहा इसको हिन्दू-मुस्लिम दिख रहे हैं .....
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
ये भ्रष्ट तंत्र  के चार खम्बे आपस में  मिल कर सारे देश को खा गए, इनका वश चले तो ये जन साधारण को हवा भी न खाने दें..... 
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
निवर्त्तमान सत्ता धारी दल एवं उसके सहयोगियों ने भ्रष्टाचार, महंगाई, घपले-घोटाले आदि दुराचारों का जो कीर्तिमान स्थापित किया था ऐसा लगता है वर्त्तमान सत्ताधारी दल एवं उसके सहयोगी, लगता है उस कीर्तिमान को ध्वस्त करने की तैयारी कर रहे हैं.....
----------------------------------------------------------------------------------------------
वर्त्तमान शासन तंत्र के संचालन में महिलाओं की भागीदारी शुन्य सी हो गई है, जो पांच सात चयनित भी हुई हैं वे सिंगर के मीडिया बनाम प्रपोगेण्डा की दूकान में ही बैठी रहती हैं.....
--------------------------------------------------------------------------------------------
भई सांठ-गाँठ की दुर्नीति नहीं अपनाएंगे तो बि-पक्ष के दुराचारों का कीर्तिमान कैसे ध्वस्त होगा.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------
"भाषा के बंधन में बंधने का अर्थ है ज्ञान को बंधनस्थ करना....."

अपने अपने स्थान पर प्रत्येक भाषा उपयोगी है,  यद्यपि संस्कृत को वैज्ञानिक भाषा की पदवी प्राप्त है तथापि विगत वर्षों में आंग्ल भाषा ने विज्ञान के क्षेत्र में अतिशय कार्य किया, अत: विज्ञान के विद्यार्थियों का इस भाषा का ज्ञान होना आवश्यक हो जाता है, सुसाहित्य के क्षेत्र में संस्कृत हिंदी व् उर्दू भाषा में जितना कार्य हुवा है कदाचित अन्य सभी भाषाओं ने सम्मिलित स्वरूप में इतना कार्य नहीं किया होगा । चूँकि भाषा अभिव्यक्ति का साधन है अत: हमें उत्तम साधन को संजोकर रखना ही चाहिए.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------
वैधानिक चेतावनी : -- यह एक शोष हेतु उत्तम वषय हो सकता है..,
आंग्ल भाषा में बहुंत से एस शब्द है जिनका प्रादुर्भाव संस्कृत भाषा से हुवा है जैसे : -- द्रप्स = ड्राप्स, पिष्ट=पेष्ट, नियर =नियर, दन्त =डैंट आदि, त्रि= थ्री, राय = रॉयल इत्यादि ।
------------------------------------------------------------------------------------------
भारत में एक अनपढ़ भी अमरीकन एवं बर्तानिया अंग्रेजी के कुछ शब्द तो बोल ही लेता है, बर्तानिया फिर भी अन्य भाषाएँ सिख रहे हैं अमरीका का पता नहीं.....
-------------------------------------------------------------------------------------
" आपका वेश भी आपके विचारों को अभिव्यक्त करता है" टाई-साई पहन के हिंदी पर भाषण..?
--------------------------------------------------------------------------------------------------
विश्व भर में भारत का ही संविधान कदाचित एकमात्र होगा, जिसमें एक हारा हुवा प्रत्याशी मंत्री बन जाता हो.....
--------------------------------------------------------------------------------------------
कहते थे बाजा दिखाएंगे, जनाज़ा दिखाए जा रहे हैं  .....
-------------------------------------------------------------------------------------------------
'प्रधान मंत्री जी' तम्बाखू को पंद्रह बीस लाख रूपए तोला और दारु को पच्चीस लाख में दो बूंद  काहे नहीं कर देते.....
--------------------------------------------------------------------------------------------
 अर्थात : -- 'अंग्रेज हटाओ-कांग्रेस लाओ..'

अरे भैया 'पराधीनता हटाओ-स्वाधीनता लाओ.....'
-----------------------------------------------------------------------------------------------
आह ! इतना दुष्प्रचार !!! 
कोई प्रधान मंत्री जी से बोलो । वह इस मीडिया बनाम प्रपोगेण्डा की दूकान को शीघ्र हफ्ता पहुंचाए..... 
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
देश के सवा सौ करोड़ जनता प्रधानमंत्री जी से यदि भेंट करना चाहे तो सत्ता धारी दल कृपया यह बताएं 'दर्शन-कर' की मानसिकता वाले उनके प्रधानमंत्री जी कितना रपैया लेंगे.....

"पहले तो पांच रपैया ही लेते थे....." 
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मैं भारत की नागरिक हूँ एवं संविधान के नियम -उपबंधों को अंगीकृत करने हेतु बाध्य हूँ,अत: मुझे तत्सम्बन्ध में अपने विचार अभिव्यक्त करने का अधिकार है.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
प्रधानमंत्री जी के प्रदेश के बचपन का पोषण  प्लाव ( प्लास्टिक ) में आबद्ध होकर बिक रहा है । यदि वह देशभर में भी यही दुर्नीति अपनाएंगे तब देश के बचपन का क्या होगा..... 
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
ये तो कह रहा था मुझे जादू आता है.....आप बस साठ महीने दे दो.....उनसठ हो गए.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------------
कौन सी दुन्या में रहते हो मियाँ.....? ये अतलसी लिबास छोड़िये और मुल्क की खिदमत कीजिए.....वरना आपकी जगहे कोई और होगा .....ये ख़्वाब बहुंत कॉमन हो गया है..... 
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
ये विश्व युद्ध की तैयारी है क्या.....? 

कहीं पढ़ा है अगला विश्व युद्ध यदि होगा तो वह पानी के लिए होगा.....इसमें विजय पानी वालों की होगी..... 
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
हाँ ! अब अंतराष्ट्रीय मंच भारत को योद्धोन्मत्त दृष्टि के कोण से देखेगा.....
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
ई सत्ता धारी पहिले तो लग लग कहते हैं, जब लग जाए तो 'लग गया' 'लग गया' चिल्लाते हैं......
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
अर्थवादी अस्पृश्यता को जातिवादी अस्पृश्यता के आवरण में छुपाना कितना सरल है.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
समय ने ऐसे नियम गढ़ दिए कि अब तो योग्यता होने पर भी लिए-दिए बिना चाकरी नहीं मिलती । इन अयोग्यों को जाने किसने अपनी सम्मति देकर पूरे प्रशासन के साथ अपने जीवन का नियंत्रण ही सौंप दिया .....
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------
कहीं मार्ग चरण तरस रहे हैं कहीं चरण पगडंडियों को भी तरस रहे हैं । अस्त-व्यस्त अनावश्यक निष्प्रयोजन निर्माण का यह दुष्परिणाम हुवा कि अब तो चार घंटे की भारी वर्षा से ही नदियों में बाड़ आने लगी है, फिर वह आई और सारा पानी खेतों में भर गया, पहले तो बरखा को जोहते आँखे पथरा गई फिर यह बाड़ बेढ़ और शाक-पात को खा गई  । आस पास के गाँवों की जो दुर्दशा हुई अब के आधा भरा साप्ताहिक हाट, उसकी कहानी कुछ इस भांति कह रहा था.....

---------------------------------------------------------------------------------------------------------
जब इनको इतनी अंग्रेज्जि आती है तो कोई तो सेक्स पियर बने.....थोड़ा सा ही बने तो भी चलेगा .....आता जाता कुछ नहीं थपथपा के मेजें तोड़ रहे हैं सो अलग..... 
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
भारत में अंग्रेजी सुसाहित्य अभी भी अत्यंत दरिद्र स्थिति में है, अंग्रेजी माध्यम की शालाओं में बच्चे विदेशी लेखकों को पढ़ते हैं अभी तक वहां किसी भारतीय लेखक का प्रवेश नहीं हुवा है इसका अर्थ यह है भारत इस भाषा से अभी भी अनभिज्ञ हैं,फिर कोई इसका पक्षधर भी कैसे हो सकता  हैं..... दक्षिण वाले अपनी भाषा का पक्ष लें न.....

राष्ट्रपति जी की बंगाली वाली अंग्रेजी सुन के तो.....गाली देने का मन करता है.....वी को वुई बोलते हैं। वो बंगाली बोले हम समझ जाएंगे....किन्तु अंग्रेजी.....? प्रधान मंत्री जी को तो ठीक से हिन्दी भी नहीं आती.....जवानी , पानी, लकीर, तेरी माँ, मेरी माँ जाने क्या क्या कहते रहते हैं, यदि ये पंद्रह अगस्त को भी ऐसे ही बिना सोच विचार के बोलेंगें तो कितना बुरा लगेगा.....नई.....  
-------------------------------------------------------------------------------------------
यदि आपको सत्य देखने, सत्य सुनने, सत्य कहने की बानि है तो पत्रकारिता पलक पांवड़े बिछाए आपकी प्रतीक्षा कर रही है .....

एक हारे हुवे प्रत्यासी को इतना नहीं बोलना चाहिए.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
कलाकार यदि चाटुकारिता, माया एवं मान त्याग दें तो उनकी कला कौशलता शिखर पर विराजित हो जाए.....  
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
हमारे देश को 'भाषा निर्पक्ष' देश होना चाहिए.....
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------
स्वाधीनता दिवस का उत्सव अब तो किसी बरात जैसा लगने लगा है जहां नेता-मंत्री एवं अधिकारी नाच दिखाते है  लोग कुढ़ते हुवे उन्हें कोसते चलते हैं.....
---------------------------------------------------------------------------------------------------
भारत शासन ने गली गली में मधुशालाएं खोल रखी हैं, न्याय की दूकान ने कोठे बना रखे हैं, मायानगरी निरंकुश होकर अश्लील मनोरंजन परोस रही है, माँ कहे बेटा उधर मत जाना.....दारू मत पीना.....कोठे पे मत जाना.....पी के बलात्कार तो बिल्कुल मत करना....और आज्ञाकारी बेटा मान जाएगा.....

" अपने खोखले भाषणों से  समाज को कोसनेवाले सत्ता धारी पहले शासन-व्यवस्था को सुधारें....."  
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
ऐसी सीढ़ियाँ दिखा दिखा के अमरीकियों को मूरख बनाया था वहां के राष्ट्र-पोती ने.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------------
प्रेम -प्रियता को मर्यादा में होना चाहिए  अमर्यादित प्रेम रक्त सम्बन्धी को भी खंड खंड करने में समर्थ होता है.....

संबधों को मर्यादित करना परिवार एवं समाज का कर्त्तव्य है, चुनावी दलों का नहीं..... 
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
हमारी वसति में तो ऐसे चित्र 'शिक्षा का अधिकार ' के विज्ञापन पटल तक के नीचे दृष्टि गोचर होते हैं उसमें लिखा  होता है ऐसे बच्चे कहीं दिख जाएं तो फून करें.....एक ही काम हो सकता है या इनको फून करो या इनको भोट करो..... यह दृश्य इस हेतु हैं क्योंकि आप इन खटिया तोडों को अपना बहुमूल्य मत देते हैं.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
यदि मैं किसी शासकीय कार्यालय में जाकर कहूँ कि मैं चाय- व्यापारी हूँ, मजदूर हूँ,  अथवा मांगता हूँ, फलाने का नाती हूँ, अथवा किसी व्यवसायिक संस्थान में जाकर कहूँ कि व्यवसाय तो मेरे रक्त में है,  तो क्या ये मुझे सेवा का अवसर देंगे ?

द्वार से ही भगा देंगे .....और आपने ऐसे को प्रधानमंत्री बनने का अवसर दे दिया.....
---------------------------------------------------------------------------------------------------
क्या है  न इनको वो तेरा दिन वाला भय था.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------
इन बेवड़ों ने पहले तो पूजा स्थलों को अपवित्र किया, अब ये शिक्षा के मंदिरों को अपवित्र करने पर तूलें हैं.....
और यदि इन्हें राम-राज्य भर बोलने के लिए कहा जाए, ये राम बोलते बोलते ही दो बार हिचकी ले लेंगे, चार बार घूस ले लेंगे, छ बार घोटाले कर देंगे , और आठ नौ बार विप्लव कारित कर देंगे.....सर्बोच्च न्यायालय सत्ताधारियों  का साकी बोले तो मदिरा परोसक है.....'अश्लील नाचघर' का निर्माता.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------
गुरू वह है जो ज्ञान देता है, शिक्षक वह है जो शिक्षा देता है, विद्वान वह है जो विद्या देता है .....,


ज्ञान :-- पदार्थ के मूल अंश को ग्रहण करने वाली चित्त की एक वृत्ति है..,
शिक्षा : -- चारित्रिक एवं मानसिक शक्तियों का विकास है.., 
विद्या : -- किसी विषय का विशेष अध्ययन कर प्राप्त विशेषज्ञता, विद्या कहलाती है..... 

शब्द, ध्वनि, स्वर - ज्ञान है ,
संगीत- शिक्षा है,
धनुर- विद्या है.....

--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
ग्रह ग्रहीता पुनि बात बस, तेहि पुनि बिच्छु मार । 
तेहि पिआइअ बारुनी, कहहु काह उपचार । । 
 ------ ॥ गोस्वामी तुलसी दास ॥ -----
भावार्थ : -- जिसे महंगाई लग गई हो, हवावाला रोग हो गया हो , फिर नाग-बिच्छू-डस लें । ऐसे तीन प्रकार से पागल हुवे लोगों को  बार-उनी बोले तो दारु पिला दे,  कहिए ये कैसा उपचार है ॥ 

समस्याओं का ऐसे ही समाधान करते हैं ये पीने-खाने वाले..... 
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
निर्धनता धन से नहीं अपितु कारण एवं निवारण से दूर होती है.....
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
इस समय राष्ट्रीय बचत पत्र ( नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट ) में दस वर्ष की अवधि पूर्ण होने पर र एक लाख पर रु दो लाख छत्तीस हजार छ: सौ प्राप्त हो रहे है.....
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
अन्य देशों में लोग पर्व को पूछते है तू कब आएगा, हमारे देश में पर्व हमको पूछता है मैं कब आऊँ.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
भिखमंगे को भीख दी जाती है, दान नहीं दिया जाता.....
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
बिना लोग-लुगाई के तो गोदी में कुत्ते बिल्ली ही खेलेंगे.....
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
बच्चों को लाने ले जाने में अभिभावकों के दो सौ से  तीन सौ रूपए व्यय हो गए वो भी छोटे छोटे नगरियों में बड़ी का तो पूछो ही मत.., कौन देगा.....? ऊपर से आधा दिन व्यर्थ गया..,
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
देश को आपदाओं ने घेर रखा है और सत्ताधारी दल के मूर्ख-मंडल को ढुलकिया बजने और भद्दे-भद्दे अश्लील नाच करने से फ़ुरसत नहीं.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
विलासिताओं  से संपन्न प्रदेश कृषकों, बनिहारों, श्रमिकों का दोही व् शोषी होते हैं यही वो प्रदेश हैं जो शोषक श्रेणी का निवास स्थल होते हैं.....
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
प्रपोगेण्डा की दूकान उर्फ़ मीडिया के अनुसार "आपदा से प्रभावित लोग उन्हें दौड़ा दौड़ा के पीट रहे हैं" अत: इनके कहे
, लिखे और दिखाएँ गए संदेशों पर अवधारणा व्यक्त करने से पूर्व सौ बारी सोच लेना चाहिए.....
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
और भारत-शासन ऐसे धिंग धंधे करने वालों को पत्रकार मानती है  हमारे श्रम जनित कर का अपव्यय कर इन मोटे मोटे पैकेज धारियों को विशेष सुविधाएं देती हैं..... बंगला, गाड़ी, लाखों की घडी, ट्रेन, प्लेन और जाने क्या क्या.....बंद करो ये सब ये सब अन्यथा कोई कर नहीं देगा.....
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
संविधान-निर्माण के चौसठ वर्ष पश्चात भी भारत के दक्षिण पूर्वी प्रदेशों  में हिंदी-सरिता बून्द-बून्द बनकर रिसती रही यह कभी धाराओं में प्रवाहित न हो सकी । मुग़ल-काल से लेकर अबतक जिस किसी ने भी भारत पर शासन किया उसने भारतीय भाषाओँ को जैसे बेड़ियों से बांध कर रखा । यह भारतीयों का दुर्भाग्य ही है कि संविधान निर्माण के पश्चात संस्कृत भाषा को कालापानी का दंड ही मिला और अंग्रेजी भारत पर राज करने लगी.....

संस्कृत विश्व की  प्राचीनतमा, दुर्लभा एवं वैज्ञानिक भाषा है,  अपने ज्ञान के अथाह प्रकाश द्वारा यह शताब्दियों से हिंदी सहित अन्य भारतीय भाषाओं को आलोकित करती आ रही है इस मातृवत भर्तृ का  तिरष्कृत रूप देखकर हृदय कुंठित होना स्वाभाविक ही है.…..   

मातृवत भर्तृ = सौभाग्यवती माता 
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मुझे सर्वोच्च न्यायालय में अंग्रेजी भाषा की बाध्यता का कारण अब तक समझ नहीं आया.....
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
ये ब्लॉग प्रपंजी से पंजिका कब बनेगा.....? पंजिका = रोकड़ 
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
 प्रधान मंत्री जी के प्रदेश के कुपोषित बचपन के कुपोषण का कारण स्पष्ट करने के लिए प्रस्तुत चित्र पर्याप्त है..... ऐसे माडल को तो मैडल मिलना चाहिए.....नई.....  राजसी वाहनों माने की लक्सरी बसों के स्थान पर    राजसी वाहनों माने की लक्सरी बसों के स्थान पर प्रधान मंत्री जी यदि गौ पालते तो बचपन कुपोषित नहीं होता.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------
चौदह पंद्रह वर्ष के बच्चों को मतदाता बनाकर नेता-मंत्रियों के लाभ के लिए काम कर रहा है ये चुनाव आयोग.....
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
टॉपर प्रथम दिवस से ही टॉपर कहलाता है, गधा नक़ल मार के भी फेल हो जाता है और गधा ही कहलाता है.....

 धूत बुड़बग --  फेलबर के नक़ल मारेगा तो फेल नहीं होगा तो औउर का होगा.....

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

मुगलों द्वारा अनर्थार्थानुबन्ध करने के कारण ही भारत में ईस्ट इण्डिया कम्पनी का विस्तार हुवा और वह अंग्रजों के अधीन हो गया । वर्त्तमान एवं निवर्तमान शासकों द्वारा  वारंवार वही कुनीति अपनाई जा रही है .....
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

जानें कहाँ - कहाँ  ! रूहे  रवाँ ले जाएगी
देखिये ! पागल हवा किस तरफ ले जाएगी 

ख्वाब सारे देख लें  कल सुबह होनें के पहले 
क्या भरोसा !किस बहानें से कज़ा आजाएगी

किस ज़ानिब जाँ निसाँ रूहे रवाँ ले जाएगी.., 
 दीवानी बादे-सबा अब जाने कहाँ ले जाएगी.., 

सुब्हे-दम से पहले ए ख़्वाब कहीँ पलकों में ठहर..,  
न जाने किस बहाने क़ब्ले- क़ज़ा आ जाएगी..... 

 क़ब्ले = सम्मुख 
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
जनता जनार्दन ने पंद्रह घाटों का पानी पिया हुवा है, उसे घाटों की सीडियां चढ़ना मत सिखाओ..... 
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
 मीडिया के चश्में से दुनिया को देखना छोड़ दो प्रधान मंत्री जी ! और उसके माया जाल से बाहिर आओ
यदि क्रिकेटर कोई प्रतियोगिता जिततें हैं तो केवल मीडिया ही नाचती है.....  
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
राजू : -- बुलेटवा भी चलाएंगे, निर्धन रेखा भी मिटाएंगे.....जो कहीं चल ही गई..... तौ हम जैसे मिडिलहु निडिल होके उ रेखा के नीचे कचकचा जाएंगे.....
---------------------------------------------------------------------------------------------
विकसित देश विकासशील देशों के प्रमुखों की रंगरेलियों का अड्डा बनते जा रहे हैं, आश्चर्य है ! वहां के नागरिकों ने ऐसे दुस्साहस पर कोई विरोध प्रकट नहीं किया.....?
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
यदि आपको पत्रकारिता करना चाहते हैं तो मीडिया में करने योग्य कुछ नहीं है, यदि आप नाटक-नौटंकी करना चाहते है तो नाटक -नौटंकी में करने योग्य कुछ नहीं है, यदि आप अभिनय करना चाहते हैं तो सिनेमा में करने योग्य कुछ नहीं है, और यदि आप कुछ नहीं करना चाहते, तो फिर साहित्य में करने योग्य बहुंत  कुछ है.....    
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
क्रांतियाँ क्रांतिकारियों को ही मुबारक हो, और सत्ता प्रधान मंत्री जीओं को.....क्यों.....?
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
उड़ीसा के बहुंत से वासियों को हिंदी बोलनी तो आती है किन्तु लिखनी पढनी नहीं आती कारण कि चूँकि उड़िया की लिपि है अत:  वहां बहुंत सी शालाओं में शिक्षा का माध्यम उड़िया एवं अंग्रेजी ही है.….
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
किसानों की धरती हड़प कर उसे  उद्योग पतियों के अधिकार में देते हैं भारत के ये प्रधान मंत्री गण.....
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
किसानों की धरती हड़प कर उसे  उद्योग पतियों के अधिकार में देते हैं भारत के ये प्रधान मंत्री गण.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
बिजली उद्योग वापस जाओ, वापस जाओ.....

गोबर गैस बनाओ, अपनी मेट्रो स्वयं चलाओ.....टिंगटांग.....
------------------------------------------------------------------------------
प्रधान मंत्री बताएं इनके उद्योग की विष्ठा बोल तो फैलाई ऐश की सफाई कौन करेगा,जो सारे देश में फैली हुई है.....
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
 ये नहीं करने दूंगा वो नहीं करने दूंगा.....प्रधान मंत्री जी किसी अच्छे सत्संग की संगती करें तो थोड़ी बुद्धि आए.…पहले एक संकल्प को पूरा किया जता है, फिर दूसरा  किया जाता है   पहले वाला दूंगा पूरा करें.....

मंत्रियों के कोट उतारो, इस कुव्यवस्था डंडा मारो..,
मत पेटी में ताला लगाओ- देश बचाओ देश बचाओ.....

सफाई कर्मी नेतागीरी कर रहे हैं, मंत्री सफाई कर रहे हैं डाकटर बिल चेक कर रहे हैं इंजिनियर क्या करें सुई लगाएं.....?
कुर्बानी हो तो खुद की हो, बेजबाँ क्यूँ शहीद हो.., 
तोड़ दे रवायतें फिर, कुछ इस तरह की ईद हो.….
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------
अंधेर नगरी है और चौपट राजा है भैया.....

इन प्रधान मंत्रियों एवं राष्ट्रपतियों को देखकर के लगता है कि देश इन पदों के बना भी चल सकता है.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
कम्पूटर काहे नहीं चला लेते टीवी रेडियो दुनो दिख जाएंगे.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
राजू : -- मास्टर जी ! जब इलाहबाद में इत्ती बड़ी युनिभर्सिटी थी फिर इ उकील साहेब उकील बनने बिदेस काहे गए.....?

 " लो ! उस समय उनको थोड़े ही पता रहा होगा कि वो एक महान आत्मा हैं....."
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

जब्हे कर कर के इंसान भी कितना बेस्वाद हो गया है, अब तो शेर भी उसको नहीं खाते.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
 एक चक्रीय राज नहीं बाबा, एक छत्रिय राज --- कैसा प्रधान मंत्री है ये न इसको हिंदी आती न अंग्रेजी.....गुजराती आती है सो वो हमको नहीं आती.....ये तो मजा मा छे..... हम सजा मा.....
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
अच्छा ! फिर तो रूपए के पीछे में इनकी फोटो छपनी चाहिए.....
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
ये तो भारतीय किरकिट ( गोलक-पट्टम ) टीम है , प्रश्न यह कि करोड़ों अरबों रूपए वाली भारतीय सेना कहाँ है.....?

प्रधान मंत्री जी ! चाय वाले से रातों रातों प्रधान मंत्री आप ही बन सकते हैं  ये जो करदाता हैं न ये नेतागीरी करके शार्टकट से धन नहीं कमाते, ये जब हाड़तोड़ परिश्रम करते हैं.....अपने बच्चों का पेट काटते हैं, धरती अपनी छांती फाड़ती है  तब कहीं जा कर देश का राजस्व एकत्र होता है.....बताइये कि देश की सुरक्षा इस समय कौन सी गुफा में है.....

खड़े हो जाते हैं वोट मांगने.....
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
पिछले दिनों एक मंत्री जी यह कहते हुवे पाए गए थे कि : -- मैं सब 'की' खोल के देखूंगा.....प्रधानमंत्री जी ! तनिक ये बताइये क्या खोल के दखेंगे आप लोग.....और ये भी बताइये अब तक कितनों की देख लिए हैं.....
 -------------------------------------------------------------------------------------------------------
कलाईयों का सुन्दर उपयोग करते हुवे ये बढ़िया लेग ग्लांस.....लक्ष्य भेदी प्रहार.....
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
उसके घर तक किसे रसाई है..,
वो ही जाएगा जिसकी आई है..,

बात इक दिल में मेरे आईं है..,
गर कह दूँ तो अभी लड़ाई है..,

दूसरी जान है तेरी उलफ़त..,
एक खोई है एक पाई है..,

भर दिया नमक जख्म में उसने..,
ये दुआ-गो की मुँह-भराई है.., 

सच है बे-ऐब है खुदा की ज़ात.., 
तुझमें जाने क्या क्या बुराई है..,

क़त्ल कराती है गफ्तगू भी उनकी..,
बात में बात है की सफ़ाई है..,

----- ॥ दाग़ दहलवी ॥ -----

 रसाई = पहुँच 

 स्याहे -आलम के हंसी पैहरन में..,
शबे-तारीक तू कितनी शनासाई है.....

यहां ख्वाब भी देखें तो दौलत लगे..,
चश्में-बाज़ार में कितनी महंगाई है.....
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
हाँ हाँ चलो संसद में जा के फूटते हैं..... 
------------------------------------------------------------------------------------------------------------
ये जादू देश को समस्याओं से निवृत्त करने में क्यूँ नहीं चलता.....इस हेतु कि वो स्वयं भी एक समस्या है.....
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
हाँ ! क्योंकि वह हाथ से निकाला हुवा अथवा सरसों से पैरा हुवा होता है..... 

जो दुखी दिखाई देते हैं वो सदैव सुखी रहते हैं, जो सुखी दिखाई देते हैं वे सदैव दुखी रहते हैं.…. 

और जो दिखाई ही नहीं देते वो .....? न दुखी रहते हैं न सुखी.....वो दुःख-सुख से परे होते हैं..... 
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
बम-सम रखने किसी और को आते होंगे.....फोड़ने तो हमें ही आते हैं.....  
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
न वो भी ले गए कुछ साथ जो मुल्कों के वाली थे.., 
सिकंदर जब गया दुनिआ से दोनों हाथ खाली थे..... 

वाली छे नहीं वाली थे थे..... 
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
बोए बबुल का बीज तो आम कहाँ से खाए..... कोई विषाक्त मिठाई खा रहा है तू सी ए फैल खा.....  
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
उ गोले-गोली चलाते रहते हैं, इधर से घुसते हैं उधर से घुसते हैं.....अउर इ लघु तुपक के साथ  फोटू खैंचाते रहते हैं .....ई जो बढ़िया बढ़िया गणवेश, बढ़िया बढ़िया पकबान, तुहरे कुटुम का भरण पोषण आदि आदि है न उ प्रधान मंत्री जी के पार्टी कोष से नहीं आते.....जनता होली दीवाली बिसरा के कमाती है.....तब आते हैं.....
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
इत्ते वड्डे वड्डे घर हैं उनकी पोछा पोछी कर ले न, लोग लुगाया सरडक बुहारती अच्छी लगती है क्या, सौ दो सौ दे के किसी से बुहरा ले, जिसक काम है उसी को करने दे.....हाँ नई तो  कभी साग भाजी बेचती है कभी सरडक बुहारने लग जाती हैं.....   
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
प्रधानमंत्री जी इइइइइ!!!!!!.....उद्योग पतियों के लिए कुर्सियां ही लगाते रहेंगे या कभी प्रधान मंत्री भी बनेंगे..... 
--------------------------------------------------------------------------------------------
कौन कमबख्त घर को खुद साफ़ करता है.....जो घर खुद साफ नहीं करते वो सरडक क्या साफ करेंगे.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
देसी गांय के दूध की रसमलाई.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------
इतना भी नहीं खाना चाहिए कि वो सेध जाए.....और उल्टियाँ होने लगे..... 
--------------------------------------------------------------------------------------------
भैया मेरे अबके किसी पुल  या सरडक से गुजरियो तो सोच समझ के गुजरियो.....ये मत सोचियो की इसे किसी ईमानदार, नेक, सच्चे, रहम दिल इंजिनियर ने बनाया होगा.....अब बिना सीमेंट छड़ का जमुना का पुल तो गिरेगा ही..... जिस सिर  पे गिरेगा कहीं वो तुम्हारा हुवा तो घर नरक बन जाएगा.....

जिस घर में रहतो हो उसकी कहानी फिर कभी..... 

इसीलिए खा था एक दिन 
--------------------------------------------------------------------------------------------------
यही तो.....हम चाहते  हैं कि हम तो भ्रष्टाचार  कर कर के  माल कमाएँ और सामने वाला सज्जन शिष्ट, सदाचारी , सुहृदयी रहे..... 
---------------------------------------------------------------------------------------------------
जिल्लो जिल्लो  में जिल्लाधीस साहेब दीवाली की वसूली  के लिए छापामारी कर रहे हैं वो चाहते हैं कि वो तो भ्रष्टा चार कर कर के कर कर के माल कमाएं, और सामने वाले सज्जन, शिष्ट, सदाचारी एवं सुहृदयी रहे..... 

राजू : -- ई सासन -प्रसासन है कि दुस्सासन है.....
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

हम जब हाड़तोड़ परिश्रम करते हैं.....अपने बच्चों का पेट काटते हैं, धरती अपनी छांती फाड़ती है  तब कहीं जा कर देश का राजस्व एकत्र होता है...जो इन न्यायाधीशों की बहु बेटियों को सम्मान जनक जीवन प्रदान करता है.....कितने दुःख की बात है कि यही न्यायाधीश हमारी बहु बेटियों के लिए अश्लीलिलता का  नाच घर खोल रहे हैं.....
----------------------------------------------------------------------------------------------------------
ऐ फ़ौजी ! तनिक इनको मानव बम दिखाओ तो..... फूट के औउर कैसे.....

 बहुंत सस्ते में आते हैं..... बीस लाख और एक ठो पिट्रोल पम्प लगता है बस 

हवाई जहाज ! लो ये भी कोई बम है.....उसमें राष्ट्र का प्रमुख कहाँ मरता है.....

ये रही शह.....अबसे हमरी सीवाँ का अतिक्रमण मत करना.....अउर दूसर के फटे में टाँग मत अड़ाना.....समझे.....चीनी 
---------------------------------------------------------------------------------------------------
लो ! हम को तो फिलिम के गाने सुन सुन के आ गई.....उर्दू जबाँ अउर का.....

कोई चार साल से कुछ सुनेगा तो कुछ न कुछ तो आएगा ही न.....

ए तेर कू हिंदी आती है.....अंग्रेजी.....? जहाँ पनाह को थोड़ी सी आती है.....अपन को थोड़ी सी भी नहीं आती.....
------------------------------------------------------------------------------------------------------
यह कैसी विडंबना है,यहां चुनाव में विजित प्रत्याशियों के  नाम घंटे भर में घोषित हो जाते  है,, और देश को बेच कर खाने वालों के भेद चिता में जल जाने के पश्चात भी उजागर नहीं होते.....
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
पंचगव्य : -- एक गुणकारी औषधि है जो रोगों के  कारकों एवं महापातक दोषों को नष्ट करने में सहायक होती है । देसी गौ का मूत्र, गोमय, दुग्ध, दधि, घृत एवं कुशा से मार्जित जल युक्त मिश्रण को शास्त्रकारों ने  पंचगव्य कहा है । तीन भाग गोमय, तीन ही भाग दुग्ध,  दधि, एक भाग घृत शेष कुशाजल होना चाहिए । विष्णु धर्म में कहा गया है कि जितना पंचगव्य बनाना हो उसका आधा अंश गोमूत्र का होना चाहिए अर्थात  उक्त मिश्रण के समानुपात ही गौमूत्र होना चाहिए 

गोमूत्रं गोमय क्षीरम् दधि सर्पि कुशोदकम् । 
पंचगव्यमिदम् प्रोक्तम्महापातक नाशनम् ॥ 
 ----- ॥ वशिष्ट संहितायाम् ॥ -----

श्वेत, लाल पीला, काला एवं हरा यह पंचवर्ण है जो मांगलिक कार्यों में उपयोग किए जाते हैं  
----------------------------------------------------------------------------------------------------------------
ये उद्योग पति भी न.....हाई-फाई की डील करते हैं अउर दान में निडिल देते हैं, एड्स बाली और कैसी.....मत लेना.....
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------
प्रधान मंत्री जी के भी नए नए चोचले हैं, देखना कहीं ये नरसिम्हा राव तक न उतर जाए.....वैसे कितना  दौड़ते हैं..... नई किन्तु पहुंचते कहीं नहीं..... 
------------------------------------------------------------------------------------------------------------
शवों पर बैठ कर खाने वालों की जात है ये.....
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------
मोहन दास करमचंद गाँधी से चूक तो हुई थी उन्हें अंग्रेजों का भारत गमन के पश्चात भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस को तत्काल भंग कर देना चाहिए था और सत्ता को लपलपा रहे लोगों को अपने बल पर दलों का गठन करने हेतु आदेशित करना चाहिए था.....तब पता चलता कौन कितने पानी में है.....  
--------------------------------------------------------------------------------------
 हाँ ! और कोई उसका कोई दूसरा अनुगामी न हो यह भी सावधानी रखनी होगी..... इसके लिए भारतीय  संविधान में दलगत चुनावी प्रणाली को समाप्त करना होगा..... 
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
"  अभी तक जितने आए छुपछुपा के खाए । यदि तुम शपथ ग्रहण समारोहों जैसे तुच्छ आयोजनों में सौ सौ करोड़ का अपव्यय करते हुवे झुल्ला  में बैठ के खुलमखुल्ला भी खाओगे  तो तुम्हारी फटफटिया पांच का एवरेज देने लगेगी....." 

राजू : -- मास्टर जी ! पांच माने की कितना.....? 

" जितना बिना चढ़े ढुलका के देती है न उतना..... 
-----------------------------------------------------------------------------------------------------------
अह : जमीन वमीन छोड़ो.....मीडिया का  कैमरा छू दिया.....? इसे तो फांसी पर लटका कर काल पानी भेजकर आजीवन कारावास का दंड दो.....

 मोहतरमा इतनी रात  को होटलों में क्या कर रही थी..... बिना राक्षसनियों वाले राक्षसों का राज है पता नहीं है क्या.....

केवल मैं अधिवक्ता हूँ शेष सभी तो न्यायाधीश हैं.....
------------------------------------------------------------------------------------------------
इस फ्री की गोरमेंट को बोलो  ज़रा नए गारमेंट न खरीदे.....
---------------------------------------------------------------------------------------------
 मुल्क दहशत गर्दों के निशाने पर है इधर जहाँ पनाह और उनका लश्कर है की तख्तो-ताज़ के ख्वाब में खोए हुवे हैं.....
-------------------------------------------------------------------------