Friday, 28 December 2012

----- ।। आओ कुछ कल्पना करें ।। -----

"भौतिक जीवन का यथार्त स्वरूप कल्पनाओं पर ही आधारित है..,"

" लक्ष्य की प्राप्ति हो अथवा न हो, लक्ष्य की कल्पना प्रस्तर प्रस्तावित
  कर उसके यथार्थतस मार्ग को प्रशस्त करती है..,"

" यदी पूर्वजों ने अंग्रजी साम्राज्य के विरुद्ध स्वातंत्र्य कल्पन नहीं किया
  होता तो उनके द्वारा दर्शित मार्ग से प्रस्थान कर स्वतंत्रता समर के सेनानी
  स्वतन्त्र भारत के स्वप्न को साकार नहीं कर पाते.....  
   

Saturday, 15 December 2012

----- ।। अगन सहुँ तिब्रतस भए रौद्र रस ।। -----

                           
                                क्रोध की ज्वाला में मनुष्य की वैचारिक वैचक्षण्य को ज्वलित कर 
                                उसे मुर्ख घोषित करने की शक्ति होती है.....

                                धन उतना ही हो जितना कि एक सामान्य एवं संतुलित जीवनयापन 
                                हेतु पर्याप्त है..... 

Friday, 14 December 2012

----- ।। सकल ताल मलिन भयऊ एकहिं मीन ।। -----

                                         
                   गुरु, शिक्षक, अध्यापक, प्राध्यापक की शरण में पाठशाला, महाविद्यालय,
                   विश्वविद्यालय में शिक्षा ग्रहण कर योग्यता प्राप्त करना यदि 'पुराना' विचार 
                   है तो 'नया' कौन सा है..??  कोई तो बताए.....  


Thursday, 13 December 2012

----- ।। सकल ताल मलिन, भयऊ एकहिं मीन ।। -----

                           
                              राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की पाठशाला का विद्यार्थी बनने हेतु 
                              कठिन प्रतियोगी प्रवेश परीक्षा देकर विभिन्न विषय-श्रेणी में 
                              प्रावीण्यता के सह उत्तम प्राप्तांक के  प्रमाण पत्र की आवश्यकता 
                              होती है, यहाँ कोई 'पीछे' का द्वार नहीं है..,

                             ये माहात्मा गांधी की पाठशाला है गोद नहीं है जो मुंह में अंगूठा 
                             रखे और जा कर बैठ गए..,

                            ये कोई 'कुर्सी' भी नहीं है कि ढाई तिन सौ 'व्यक्तियों' के उत्साहित 
                            करने पर जाकर बैठ गए..,

                           मोहन दास करम चन्द्र गांधी की पाठशाला कोई खिलौना भी नहीं है 
                           की इठला कर 'मैया में तो "चन्द्र' खिलौना लेहूँ"  कह  उंगली  रख  दी 
                           और मैया ने दिला दिया.....

Tuesday, 11 December 2012

----- ।। सम्मान या अभिमान ।। -----


                     
                               उत्कृष्ट प्रतिभावान को दिया गया पुरस्कार-सम्मान न केवल प्रतिभा
                               को अपितु सम्मान की गरिमा को उत्कृष्ट करता है..,

                              पुरस्कार-सम्मान प्रदाता को इसे प्रदान करते समय अत्यधिक
                              सावधानी का अनुपालन करना चाहिए ग्रहीता यद्यपि प्रतिभावान हो
                              किन्तु यह देय सम्मान का दुरुपयोग भी कर सकता है..,

                              जहाँ सम्मान पुरस्कार प्राप्तकर्त्ता पुरस्कार का दुरुपयोग करना आरम्भ
                              करता है वहां से सम्मान की भी अपमान होना प्रारम्भ हों लगता है तत्
                              पश्चात पुरस्कार ग्रहीता, देय पुरस्कार का अधिकारी नहीं रह जाता..,

 
                             विगत कई वर्षों से भारत में न केवल राष्ट्रीय अपितु अन्तराष्ट्रीय पुरस्कारों
                             का भी गृहीता द्वारा अधिकाधिक दुरूपयोग हुवा है यही कारण है की आज
                             विश्व-पटल पर भारतीय प्रतिभावान की छवि धूमिल है एवं उसकी प्रतिभा
                             का न तो आदर-सत्कार है एवं न ही कोई मूल्य है.....





Monday, 10 December 2012

----- ।। हम और हमारा हैमवत वर्ष ।। -----


                             
                                धर्माधिकारी,सदाचारी, मर्यादित, पुरुषोत्तम, सत्यवादी, नीतिकुशल,
                                सद्चरित्र, सौहार्द-निधि, विनम्रता से युक्त व्यक्ति देश में नहीं हैं..??

                                एक नहीं, सहस्त्र नहीं,  सहस्त्रों हैं आप ढूंढ़ीये तो सही..,

                                किन्तु संसद एवं विधान सभाओं में एक भी नहीं है
                                यदि होते तो वे ही हमारे देश के राष्ट्रपति, प्रधान-मंत्री,
                                मुख्यमंत्री होते ये छ्द्म-चरित्र  धारी नहीं..... 

Friday, 7 December 2012

----- ।। मत का अर्थ एवं अर्थी ।। -----


                                'मत' यदि 'दान' है, दान यदि 'धर्म' है, धर्म यदि 'दया' है, तो क्या ये
                                 'नेता-मंत्री' इस दया के पात्र हैं.....?????


                                  'अदेशकाले यद्दानं अपात्रेभ्यश्च दीयते'
                                    -----।। श्री मद्भागवत गीता ।। -----

                                  अर्थात कुदेश में, कुसमय में एवं कुपात्र को दिया गया दान तामस
                                  होता है..,


                                 'अपात्रे दीयते दानं दातारं नरकं नयेत्'

                                 अर्थात  अपात्र  को  दिया हुवा  दान  दानी को नरक में ले जाता है
                                 दान सदैव योग्य काल, योग्य पात्र, तथा योग्य स्थान देख-विचार
                                 कर ही करना चाहिए यदि योग्य पात्र नहीं हो तो दान नहीं करना
                                 चाहिए चाहे वह 'धन-दान' हो या 'मत-दान'

                                 यथा प्लवेनौपलेन निमज्जत्युदके तरन् ।
                                 तथा निमज्जतो धस्तादज्ञौ दातृप्रतिच्छकौ ।।

                                 अर्थात जिस प्रकार पानी में पत्थर की नाव से तैरता हवा व्यक्ति
                                 उस नाव के साथ ही डूब जाता है, उसी प्रकार मूर्ख दानग्रहिता
                                 तथा दानकर्त्ता -- दोनों नरक में डूबते हैं.....

                                 नरक = दुःख, कष्ट, अभाव, निर्धनता, महंगाई, भ्रष्टाचार,घोटाला
                                             आदि आदि का संसार.....



          

Saturday, 1 December 2012

----- ।। प्रथा की व्यथा ।। -----


                             'घूँघट अथवा पर्दा प्रथा' एवं 'शीश अपिधान ' यद्यपि एक रूढ़ीवादिता थी,
                              हैं और रहेगी किन्तु  'शरीर प्रदर्शन' भी न  तो  सुरीति  है और न ही यह
                              आधुनिकता का परिचायक.....

                             कई धर्म, जाति, समाज समुदाय परिवार में विशेषकर महिलाओं हेतु
                             इस रुढिवादिता को अपनाना न केवल  अनिवार्य  है  अपितु  कठोरता
                             पूर्वक  पालन  करने  के  निर्देश  हैं, पारंपरिक  परिधान यद्यपि अपनी
                             सभ्यता, संस्कृति  व  संस्कारों  को  जीवित  रखते  हुवे  स्मृति  गम्य
                             चिन्ह स्वरूप होते हैं किन्तु इन्हें पुरुष वर्ग द्वारा भी अपनाना चाहिए.....

                        

Tuesday, 27 November 2012

----- || सत्य वचन ।। -----

" प्रेम, मानव द्वारा रचित अद्भुत व अमर कृति है....."

" सत्यवादी को सदैव असत्य व असत्यवादी को सदैव सत्य विचलित करता है....."

Thursday, 8 November 2012

----- ।। महा-भारत ।। -----



                                    नाम किरत करि नाम न होई । नाम धरन धरि नाम न सोई ।।
                                    भू भुवन भूरि भूति भलाई । करित करम करि जस तस पाई ।।

                                " मनुष्य की  ईश्वर से तुलना नाम से नहीं अपितु कर्म से की जाती हैं....." 



       

Wednesday, 7 November 2012

----- त्रि मूर्ति भवन -----

    "  मतदाता एवं मतग्रहिता की जीवनशैली समान रूप से द्रष्टिगत होना  
       ही 'समानता' की वास्तविक एवं संवैधानिक परिभाषा है जो की एक 
       उत्तम लोकतंत्रका महत्वपूर्ण लक्षण भी है.....
         

Sunday, 21 October 2012

----- ।। अहंकारी के सिर ।। -----


                                'अहम् वृहतम्' यह व्यक्ति नहीं उसका अहंकार 
                       बोलता है.....

                       

Friday, 19 October 2012

----- ।। चले नेता नवाब बनने ।। -----

हमारे माननीय राष्ट्रपति, प्रधानमन्त्री, मुख्यमंत्री, मंत्रीगण
सभी दल अध्यक्षों एवं दल सदस्यों आदि आदि को ना तो
हिंसा अच्छी लगाती है ना ही अहिंसा, ना तो इन्हें धरना
अच्छा लगता ना ही मरना न इन्हें अनशन भाता न ही
ध्वंसन ना तो इन्हें समाचार पत्रों के समाचार अच्छे लगते
न ही इन्हें दूरदर्शन के दृश्य समाचार..,

इन्हें किसी भी प्रकार का विरोध अच्छा  नहीं लगता
हाँ कुर्सी से चिपकना एवं उस पर पसरे  रहना  बहुंत
अच्छा लगता है, विदेशों में जन्म दिन मनाना तथा
रंगरलिया मनाना बहुंत  अच्छा  लगता  है, बड़े बड़े
देशों के  राष्ट्रपतियों  के  साथ  कोट शेरवानी धारण
कर  सेमीनार  करना बहुंत अच्छा लगता है इनकी
छींक  भी  हवाई  जहाज  की  हवा खाए  बिना एवं
विदेशी चिकत्सकों के हाथ लगे बिना ठीक ही नहीं
होती.., 


प्रतीक्षा है जनता का नरसिम्हा के अवतार स्वरूप
में अवतरित होने की जो इन लोकतांत्रिक  खम्बों
को उखाड़ कर इन हिरन्यकश्यपों का सर्वनाश कर
सके..,


जबकि वर्त्तमान में भारत का एक जनसामान्य
केवल मात्र आधारभूत सुविधाओं के लिए संघर्ष
कर रहा है एक सामान्य व्यक्ति स्वयं का तो दूर    
अपने छोटे से बच्चे का जन्म दिवस मनाने हेतु
दस बारी सोचता है.....


भारतीय लोकतंत्र ऐसे कोषज के सदृश्य है जिसके
कोषा तंतुओं में 'राजतंत्र' लिपटा हुवा है.....  

Wednesday, 17 October 2012

----- || साम, दाम, दंड, भेद ।। -----

            "जिस मंदिर-मस्जिद में काली माया के दान का संग्रहण हो,
         उस मंदिर-मस्जिद से भगवन कोसो दूर रहते हैं....."


            " कुकृत्यों पर अंकुश लगाने के दो प्रमुख उपाय है
               जनचेतना एवं भय.."


           " इस संसार में भांति-भांति के राष्ट्र हैं जहां भांति-भांति के लोग निवास करते हैं  
             व्यक्ति कोई भी हो उसे मृत्यु का भय अवश्य रहटा है कारण कि यह उसके
             संज्ञान में सैदेव यह बात रहती है कि उसके कर्मों का फल उसे मृत्यु के पश्चात 
             तो अवश्य है प्राप्त होगा, वास्तव में व्यक्ति मृत्यु से नहीं अपितु अपने कुकर्मों 
             से मिलने वाले दंड से भय ग्रस्त रहता है.."


          "  एक राष्ट्र की सुदृड़ दंड प्रणाली वहां के नागरिकों के अपराध पर अंकुश लगाती है 
             भ्रष्टाचार भी एक गंभीर अपराध है, इस पर अंकुश  तभी संभव है जब  सुदृढ़  दंड 
             प्रणाली हो एवं व्यापक जन चेतना हो....."  
  

          

Monday, 15 October 2012

----- || न्याय का व्यवसाय ।। -----

भ्रष्टाचार रूपी वृक्ष का अदृश्य मूल न्यायालयों में रोपित है
शासन-प्रशासन इसका तना व शाखाएं हैं इसके तने को हिलाने
अथवा किसी शाखा को काटने भर से यह वृक्ष उखड़ने वाला नहीं है..,


यदि सर्वोच्च न्यायालय से लेकर उच्च व निम्न न्यायालयों के कंठ को
 पंजों में पकड़ कर कसा  जाए तो  शासन-प्रशासन के  भ्रष्टाचार  रूपी
 उदराधारित नाभि कुंड का अमृत स्वत: ही प्राप्त हो जाएगा..,


ऐसे बहुंत से लेखक हैं जिनकी आजीविका लेखनी पर ही आधारित है
तथापि ये लेखनी की शक्ति से अपरिचित हैं..,

बहुंत से संवेदनशील विषय ऐसे हैं जिनसे जनसामान्य की संवेदनाये सीधे
संयोजित हैं किन्तु ये लेख्ननियाँ इन विषयों पर लिखने हेतु सदैव भयग्रस्त रहती है..,


भ्रष्टाचारी धन्ना के लिए जहाँ न्यायालय में 'देखना' सरल है,
वहीँ सड़क पर खड़े निर्धन मतदाता के लिए न्यायालय में
'दिखाना' कठिन है, यहीं पर संविधान की प्रस्तावना छिन्न-भिन्न
हो जाती है.....

Saturday, 13 October 2012

----- ।। शपथ के नाना पथ ।। -----

अग्नि को साक्षी मान कर वर पाणि ग्रहण करता है..,

न्यायालय में अपराधी-निर्पराधी, दोषी-निर्दोष,वादी-प्रतिवादी
स्वधर्म ग्रन्थ को साक्षी मान शपथ लेकर अपना पक्ष रखते हैं..,

मैं.....शपथ लेता हूँ....

शासन-प्रशासन के सेवक-प्रतिनिधि किसको साक्षी मान कर शपथ लेते हैं,
राष्ट्रपति को, प्रधानमन्त्री को, मुख्यमंत्री को, पक्ष-विपक्ष के दलाध्यक्षों को,
अथवा अग्नि,जल, वायु, आकाश, भूमि को.., ईश्वर की परिभाषा किसे कहेंगे ?

स्पष्ट नहीं है.....



Saturday, 6 October 2012

----- ।। अभाव का भाव ।। -----

" एक छोर पर वह व्यक्ति है जिसका कंठ अभाव का भाव पूछ पूछ कर
  शुष्क हो गया .., दुसरे छोर पर वह व्यक्ति है जिसे अभाव अर्थान्वेषण
  हेतु शब्दकोष की आवश्यकता होगी..,


 "एक छोर पर वह व्यक्ति है जिसका जीवन भोजन, आच्छादन, उपचार
  जैसी आधारभूत व्यवस्था हेतु ही  संघर्ष  रत है.., दुसरे  छोर  पर वह
  व्यक्ति है जिसका जीवन भोग विलास की तृष्णा से परिपूर्ण विषय काम
  लोलुप हेतु प्रासंगिक रहते हुवे भोगवादी है..,


" वाही भोगवादी व्यक्ति अपनी विषय वासना के वशीभूत छल-छद्म स्वरूप
  में भोकस भिक्षुक का रूप धर अभाव ग्रस्त  व्यक्ति  के द्वार   पर  उसकी 
  एकमात्र शक्ति उसका  'मत' को छल कपट से हरण कर लेता है..,


" धिक्कार है ! ऐसे जीव ! ऐसा जीवन !! ऐसी जीवनी !!! एवं ऐसे दुश्चरित्र पर.....
 

Sunday, 30 September 2012

----- || भोग भोग भोगवान ।। -----

जिस राष्ट्र का न्याय क्रयशील हो उस राष्ट्र पर अन्य राष्ट्रों की
कुदृष्टि बनी रहती है.....


न्यायाधीश की निष्ठा पूर्वक यथेष्ट न्याय  की  व्यवस्था  से
एक भ्रष्ट राष्ट्र स्वत: ही सुखद परिवर्तन की ओर अग्रसर होगा.....


मेरे, केंद्र एवं प्रदेश शासन में एक दो कार्य लंबित है किन्तु
घूस की मांग पूर्ति के बिना कोई कार्य सिद्ध नहीं हो रहा.....


निर्वाचन आयोग कृपया यह सूचना देने का कष्ट करे
कि मैं किसे मत दान करूँ केंद्र में पक्ष है तो प्रदेश में
विपक्ष.....??


Friday, 28 September 2012

----- ।। भोग भोग भोगवान ।। -----

एक लोकतंत्र में जहां लोकसेवक की जाति व धर्म होता है,
वहीँ राजनेताओं की जाति व धर्म केवल राजनीति होती है.....


लोकतंत्र के जनप्रतिनिधि की विलासपूर्ण जीवन शैली उस
लोकतंत्र का सबसे बड़ा दुर्भाग्य है वहां, जहां की वह मतों
के 'दान' से संचालित होता हो.....


'मत' कोई कन्या नहीं है जसके दान हेतु किसी कृष्ण
मोहन अथवा राम या चाँद-सूरज या राजा महाराजा
की  आवश्यकता  हो  यह  प्रत्येक भारतीय नागरिक
चल  संपत्ति  के  तुल्य  है जिसके  दान की सार्थकता
स्व कल्याण हेतु ही है.....


भारतीय संविधान के अनुसार मतदान  प्रत्येक भारतीय
नागरिक का अधिकार है न की कर्त्तव्य,यह मतदाता की
स्वेक्षा पर निर्भर है की वह इसका  दान करे अथवा नहीं
मत के दान हेतु किसी भी व्यक्ति पर न तो दबाव बनाया
जा  सकता  है  एवं न ही दबाव पूर्वक अनुरोध ही किया
जा सकता.....


शास्त्रानुसार : --
" अपात्रे दीयते दानं दातारं नरकं नयेत् ।।"

अर्थात अपात्र को दिया हुवा दान दानी को नरक में ले
जाता है.....


Tuesday, 25 September 2012

----- ।। अशोक वाटिका ।। -----

जनसाधारण एक ऐसा अर्थकर वटवृक्ष है जिसे  शासन उपजाऊ
व उत्कृष्ट उर्वरा से यदि पोषित करे तो यह एक  फलदार वृक्ष में
परिवर्तित हो सकता है किन्तु वर्त्तमान सन्दर्भ में  उक्त उर्वरा में
भ्रष्टाचार के कृमि किलबिला रहे हैं तथा भ्रष्टाचारीयों के दुर्गन्ध
से सड़ान्ध भी उत्पन्न हो गई है.....


धर्मरहित मनुष्य वह निरंकुश शक्ति है जिसके  द्वारा  श्रष्टि  का
काल तक संभव है.....


व्यक्तकृत लक्ष्मा, वाक्, गणित, तंत्र आदि के व्यक्तिकरण से पूर्व
विषय विशेष का गहन अध्ययन उत्कृष्ट ज्ञान का सृजन करता है.....


प्रत्येक आविष्कार मानव कल्याण हेतु सतत् साधना, ज्ञान एवं
लगन का परिणाम है जिसका दुरुपयोग  दुष्कृत्य  की  श्रेणी है.....


Monday, 17 September 2012

----- ।। विश्व की वास्विकता ।। -----

वर्तमान में  हम दैनंदिन  अर्थगत वैश्विक मंदी  से जूझ  रहे हैं,
भारत का लोकतंत्र  उसकी  वास्तविकता को परिभाषित  नहीं
करता, अन्य राष्ट्रों के जनसामान्य को भी अपने जन संचालन
तंत्र  एवं उसके  संवैधानिक स्वरूप का आकलन  एवं समुचित
समीक्षा की सतत आवश्यकता है.....



Sunday, 16 September 2012

----- ।। सुसंस्कृतम् ।। -----

विकृत संस्कृति का वैचारिक परिवर्तन धन-बल से नहीं अपितु
ज्ञान एवं बुद्धि से संभव है.....



Thursday, 30 August 2012

-----।। ज्ञान-गंगा ।। -----

"ज्ञान रूपी धारा, विशुद्ध चरित्र के रज पर सतत प्रवाहित होती है"

 "अशुद्धता का पाषाण प्रवाह को बाँध लेता है  प्रवाहित नीर एवं ज्ञान सदैव शुद्ध रहता है"


" मनुष्य एक शक्तिशाली प्राणी है,प्रकृति के चित्रपटल पर वही
  दृश्य उभरता है जिसका वह दर्शनाभिलाषी है"


" अर्धांगनी प्राय: आयु पुछ कर आती है किन्तु मृत्यु  आयु पुछ
  कर नहीं आती"
  

 

Wednesday, 29 August 2012

----- ।। मान न मान ।। -----














 दंड    चारी   चक्र   व्यूह   दंडाधिप   देवकुल ।
 धर    धारणा  धार  ध्रुव  पाल  पाश   पांशुल ।।                               

दंड भोगी भय कृत  विकल्प विधि वध वधिक ।
दंडानीक    दण्डित  दंडी    दंडिका      दंडिक ।।

----- ।। न्याय का कार्यक्रम ।। -----

" लोक, राज, पर, सैन्य अथवा किसी भी तंत्र का उचित या अनुचित न्यायधिकरण जन
  संचालन का आधार स्तम्भ होता है "


" काय-कार-काल के कार्य-कारण न्याय का परिमाण एवं औचित्य परिवर्तित कर देते है"


             

Tuesday, 28 August 2012

----- ।। न्याय का क्रियाकर्म ।। -----

" भारत की  विद्यमान  संसदीय  प्रणाली  में  कार्यपालिका,
  न्यायपालिका का संचालन कर रही है एवं न्यायपालिका
  का ये दोनों ही प्रशासन को नियंत्रित कर रहे हैं क्या द्वैध
  शासन प्रणाली का यही स्वरूप है-----" 

" महात्मा गांधी की ह्त्या अंग्रजों के शासन काल में न होकर
  नेहरू के शासन काल में हुई सुभाष चन्द्र बोष विलुप्त रहे, देश
  की आतंरिक सुरक्षा प्रणाली पर उक्त शासन से किसी  ने  भी
  कोई गंभीर प्रश्न नहीं पूछा; आश्चर्य है !!!" 

Monday, 27 August 2012

----- ।। मान न मान ।। -----


                                         नील वसन  आधार  धर  उत्तर  उत  निरवास ।
                                         बहु  व्यसन  देश  बाहर   महामात्य    प्रवास ।।

                                         सिंहासन  मणि  सोपान  बहु  रूप  रस रंगीन ।
                                         भोज भोजन भोग  वान  नक्त  दिन  नक्तंदिन ।।

                                         नीव नीव नीवानास नील मणि शिख शिखण्ड ।
                                         नृप  निति  पथ  सभा  सुत  नृशंस  नंगधडंग ।।

                                         ध्वज  धर  पट  ध्वजाहृत  धृष्ट  दीधिति राष्ट्र ।
                                         धूर्त  कितव  कृत्य  चरित दुष्ट  धृति  धृतराष्ट्र ।।

                                         धनुर्धर  धर्म  सभा सुत धनञ्जय धारि धार ।
                                         ध्वजीनी  धर्म  युद्ध  युत  संहित सहाय सार ।।  

  

Sunday, 26 August 2012

-----।। सांसद की सांस ।। -----

" सांसदों को चलचित्र  के ऐनक लगाकर संसदीय छविग्रह से  राष्ट्र की  प्रत्येक
  महिला चित्रान्गना एवं पुरुष "गड्डमगोल अर्थात  क्रिकेट क्रीडिता" के  सदृश
  दिखाई दे रहें हैं, महात्मा गांधी का ऐनक को तो कहीं 'संग्राहलय वन्ग्राहलय"
  में फेंक रखा है....."


" आनेवाले वर्षों के चुनावों का प्रश्नपत्र अत्यधिक  कठीन होगा हल कर  उत्तीर्ण
  करना 'दलीय विद्यार्थियों' के लिए  अत्यधिक दुरूह होगा, परीक्षा के परिणाम
  के  पूर्वानुमान  का  सटीक  व्याख्याकार 'विषय विशारद विशेष ' के  विभूषण
  योग्य हो सकता है....."

                  

Friday, 24 August 2012

----- || घीसा-न्याय--पिटा-न्यायालय ।। -----

" स्वतंत्रता प्राप्ति के पूर्व भी न्यायिक व्यवस्था थी किन्तु व्यवस्थित नहीं थी,
  फलस्वरूप अंग्रेज को भारत छोड़ना पड़ा कारण  व्यापक  जनविरोध  रहा
  वर्त्तमान न्यायिक व्यवस्था का आधार भी प्राचीनतम ही है....."


" न्याय उपलब्धता के प्रश्न पर आम भारतीय नागरिक का उत्तर नकारात्मक
  ही होगा तथापि विद्यमान न्यायिक व्यवस्था के प्रति  अंधश्रद्धा  दर्शनीय है....." 

Thursday, 23 August 2012

----- ।। सत्य-वचन ।। -----

" स्थापित सत्य की स्थिरता पर ही आत्मविश्वास स्थिर रहता है....."


" निकृष्ट कर्म के त्याग से ही मनुष्य उच्चतम स्थान प्राप्त करता है....."

Wednesday, 22 August 2012

-----||सर्व विकार स्वीकार=सरकार।।-----

 मुझको ख़बर है तेरी क़त-ए-कलम कालिख की..,
 इस कारकरदा का तू भी तो इक किरदार है..,

कदे-कतार का सजदा करें या के तोहमत दें..,
गुल दस्त-ब-दस्त हैं और कफे-कारबार है.....


" कूटकोण एवं कूटकारों द्वारा लोकतंत्र एव लोकनीति का संचालन नहीं होता,
  इससे  केवल  'राजतंत्र'  व  'राजनीति'  ही  संचालित  होती हैं; राजनीति में
  साम दाम दंड भेद का प्रयोग कर एक शक्तिशाली दुसरे शक्तिशाली का दमन
  का 'लोकप्रिय' नियम है....."
     

Tuesday, 21 August 2012

----- ।। चार - विचार ।। -----

" अंतरज्ञान ज्योत-प्रकाश के प्रसारण का सुगम साधन वाणी वाद, वर्ण वर्तनी
  एवं विषय वर्णन इत्यादी हैं भाषा विचार अभिव्यक्ति का सबसे सरल माध्यम है....."   

        

Friday, 17 August 2012

----- || SAN-SAN SANSAD || -----

राजनैतिक दलों द्वारा राजनैतिक चमक दमक हेतु  देश,प्रदेश अथवा स्थानीय
स्तर  पर  किसी  भी  प्रकार  का  बंद के आयोजन के फलस्वरूप ह्तभागी को
यथाक्रम संसद, विधायिका अथवा स्थानीय निकायों को बंद कर देनी चाहिए.....    

Monday, 13 August 2012

----- || KALAM AAJAAD || -----

                                                       कलम आज़ाद

  
                                             गुलामे-हिन्दुस्ताँ को फ़तेह शाने-सर दिया..,
                                             सर जमीं   आजादे-हिन्दुस्तान  कर  दिया..,

                                             जहां जमीन गुल जो गुलामी पे लुट गए ..,
                                             सफ़र कदम हमने इक निशाँ कर दिया..,

                                             जलजलों के जलवे ने कुश्ता किया चराग..,
                                             जवान जलजलों ने  शम्मेदान  सर दिया..,

                                             जुल्मे जहन्नुम में जलाया फिरारी ने
                                             फिरदौस को जलाके शमशान कर दिया..,

                                             जहान्नारा जान पे जाँ निसार कर चले..,
                                             जवाँ जवाँ जवानों बागबान कर दिया..,

                                             शहाब की रंगीनी शहादते शबीह पर..,
                                             सर अंजाम सरापा शहीद शहान बर दिया..,

                                             जुलमते मुल्क के शाख्शान पे शहीद..,
                                             पाकिज़ा जर्रे को हमने लो पेशान पर दिया..... 


Friday, 10 August 2012

----- || SAN-SAN SANSAD || -----

                                           सन-सन संसद 


 जिस संसद में जनता के जीवन-मरण के प्रश्न निर्धारित  होते हैं उस  संसद का
 विद्यमान स्वरूप क्रीडास्थल एवं छविग्रह के सदृश हो गया है मानो वह अदृश्य
 असुर शक्तियों द्रारा नियंत्रित हो रहा है.....  

Thursday, 2 August 2012

----- || SVATANTRA - SVARTANTRA || -----

                                                                                       








             ----- ।।  स्वतन्त्र - स्वरतंत्र  ।। -----

" स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात भारत का  शासन  प्रबंध  यथानुक्रम उन दलों 
  के अधीन रहा जिनको  राम-रहीम अथवा  धर्मनिरपेक्ष  जैसे  शब्दों  से
  कोई सरोकार नहीं रहा, महात्मा गांधी की विचारधारा इनके शब्दकोष
  में विलोपित है.."  


 SATURDAY, AUG 04, 2012                                                    

" विद्यमान संवैधानिक संकलन की संरचना संसद निर्माण के पूर्व हुई थी;
  संसद, संसदीय व्यवस्था का एक संकल्पित अंश है.."



" मार्ग सदैव एक होता है, मनुष्य का चरण-आचरण उसके लक्ष्य की दिशा
  निर्धारित करता है.." 


SUN/MON, AUG 05/O6, 2012                                                            

भारतीय एतिहासिक एवं प्रोगेतिहासिक शासकों ने तात्कालिक  युगपुरुषों 
का पूजन प्रदर्शन कर सदैव वैदेशिक शक्तियों को आकर्षित किया वैदेशिक
शक्तियों ने कला संस्कृति एवं व्यापार की लुभावनी छवि प्रस्तुत की,अंग्रेज
सर्वाधिक चतुर प्रमाणित हुवे जिन्होंने दीर्घावधि पर्यंत भारत को बांधे रखा....." 

एक विधि स्नातक युवक की जीवन धारा  को  लौह  पथ गामिनी के अंतर
प्रकरण ने परिवर्तित कर दिया नाम था मोहन दास करम चंद गांधी, सत्य 
अहिंसा अनशन धरना प्रदर्शन का दक्षिण अफ्रिका में सफलतम प्रयोग कर
भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के भवन की वास्तविक नींव रखी.....

श्रीराम चन्द्र ने मात्र एकतीस तीरो  से  रावण  का  वध  कर दिया इन्हीं के
जीवन चरित्र से प्रेरणा ले  केवल  मात्र एकतीस वर्षों के सक्रीय आन्दोलनों
के फलीभूत भारत को अंग्रेजों के बंधन से मुक्त कराया.....               


छलावे के नीर पर नेंतिकता की नौकाएं विचरित नहीं होती..''      


स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात  वेगमय  शासन  शक्ति  के सह लेखनियाँ सतत
प्रवाहित होती रही, इस ज्ञानाभाव के कि प्रवाह नल है, नलिका है,नाला है
नदि है, अथवा गंगा है.....'' 


मुझ संकाश नहु सज्जन, दुर्जन के विचार ।
मुझ नीकाश नहु दुर्जन, सज्जन का आचार ।।.....( 08 अगस्त ) 



गुरूवार, 09 अगस्त, 2012                                                           

विधि का विषय विशेष, विशिष्ट वाग्विदग्ध एवं वाग्विभव हेतु है.....

जिनसे एक तुच्छ सिंहासन नहीं छुटता उनसे ये जीवन कैसे छुटेगा.....      

Saturday, 28 July 2012

----- || DESH - DISHAA KI DURDASHAA || -----

  " किसी राष्ट्रइकाई की न्यायिक व संविधानिक व्यवस्था से जनसामान्य की आस्था का
    न्यूनीकरण,परिवर्तन का संसुसचक है,परिवर्तन के स्वरूप के ज्ञान हेतु केवल इतिहास
    के अध्ययन की आवश्यकता है.."


  " वर्तमान सत्ता का संवैधानिक स्वरूप यदि यथार्थत: सतत  कार्यशील रहा तब भविष्य में
    कदाचित विद्यमान भय व भ्रष्टता युक्त सत्ता का मुख मंडल का परिदर्शन विभत्स हो....."  


TUESDAY, JULY 31 2012                                                                             

   समृद्ध  एवं  विकसित भाषा के अंतस्, भाव अभिव्यक्ति  का वैभवपूर्ण  व्याख्यान  संभव है,
   वहीं पाश्चात्य (पिछड़ी) व अविकसित भाषाएँ भावों का अभाव दर्शातीं हैं.....  
 


Sunday, 8 July 2012

----- || SANSAAR SAAR || -----

" आलोचना व अवहेलनाऐ सदैव उत्कृष्ट उद्धरण हेतु प्रोत्साहित करतीं हैं....."

" निंदक नियरे राखिये आँगन कूटी छबाए..,
  बिनु पानी बिनु साबुना निर्मल करे सुहाए....."
                          ----- ।। कबीर ।। -----


" सिद्धांत व व्यवहार, अध्यात्म व विज्ञान के द्वैध पक्ष हैं;
  अध्यात्म का सम्बन्ध आत्म रूप में व विज्ञान का
  सम्बन्ध दैहिक स्वरूप में है....."


TUESDAY, JULY 10, 2012                                                                      


" तुलनात्मक दृष्टिकोण की स्तुति की अपेक्षा अतुल्य
   दृष्टांत की प्रस्तुति का प्रस्तावक होना चाहिए....."


SUNDAY, JULY 15, 2012                                                                         


" योग्यता तब निश्चित होती है जब व्यक्ति वास्तव में योग्य हो.."


" परिभ्रष्ट अथवा क्लिष्ट कर्म से अर्जित धन के दान से श्रेष्ठ, उक्त कार्य का
  परित्याग है..,
  अर्थात : --
                   अनैतिक अर्जन ( ज्ञान, अर्थ इत्यादि ) के विसर्जन से उत्तम
                   अनैतिक कर्म का विसर्जन है..,

                   नीतिगत अर्जन का रितिगत विसर्जन( दान,धर्म आदि ) सर्वोत्तम है ..,
                 
                   गुप्त विसर्जन उत्तमोत्तम है....."

SATURDAY, JULY 21, 2012                                                                       


" गुणों के मध्य कोई एक दोषारोपण खिन्न्न करता है,
  दोषों के मध्य कोई एक गुणगान प्रसन्न करता है;
  सत्य आलोचना श्रे ष्ढ व्यक्तित्व का निर्माण करती है.."
  किन्तु : --
                 सचिव बैद गुर तीनि जौं प्रिय बोलहिं भय आस ।
                 राजधर्म  तन   तीनि   कर  होइ  बेगिही    नास ।।
                                            ----- ।। तुलसीदास ।। -----



                

Tuesday, 19 June 2012

----- || CHAAR VICHAAR || -----

TEUSDAY, JUNE 19, 2012                                                                         


" योग्यता का परिक्षण योग्य ही कर  सकता है....."
  


" भाषायी योग्यता व संज्ञानित ज्ञान की दिशाएँ
  वरीयता परिक्षण हेतु भिन्न है....."






TEUSDAY, JUNE 26, 2012                                                                          


" सच्चरित्र व्यक्तित्व की सुप्रशंसना, व्यक्ति की सर्वोत्तम निधि है....."


" पर परिदृष्टा के पथानुगमन से स्वयं का लक्ष्य लक्षित होता है,
   स्व लक्षित लक्ष्य से पर परिदृष्टा का पथ प्रशस्त होता है....."


TUE/WED, JULY 3/4, 2012                                                                           


" भारत की स्वतंत्रता के कर्णधार का तन एकल वसन था,
  स्वतन्त्र भारत के कर्णधारों का मन भी निर्वसन है....."


" एक वसन, एक वचन, एक मन में आह्वयन..,
  स्वतन्त्र भू ! स्वतन्त्र भाव !! स्वतन्त्र हो भाव भवन !!!


  रिक्त-रिक्त हविष्य है..,
  देह की है आहुति..,
  ह्रदय का है हवन..,
  स्वतन्त्र भू ! स्वतन्त्र भव !! स्वतन्त्र हो भाव भवन !!!


  निराहार नीर आहार में..,
  सत्य सह संहार में..,
  नरंधि नरमेध नमन..,
  स्वतन्त्र भू !स्वतन्त्र भव !! स्वतन्त्र हो भाव भवन !!!


  रक्त-रक्त का है रण..,
  आह !आह !! आभरण..,
  है शान्ति के ही शरण..,
  स्वतन्त्र भू ! स्वतन्त्र भाव !! स्वतन्त्र हो भाव भवन !!!

  सोम्य सैन्य संकेत है..,
  निकुंज निकट निकेत है..,
  विनत-विनत विनीत नयन..,
  स्वतन्त्र भू ! स्वतन्त्र भव !! स्वतन्त्र हो भाव भवन !!!


  विरतर वीर वीरता..,
  चौचरण चिर चीरता..,
  खड्ग रहित शसन शमन..,
  स्वतन्त्र भू ! स्वतन्त्र भव !! स्वतन्त्र हो भाव भवन !!!.....




" भोग विलास में संलिप्त, क्षेत्र विशेष के शीर्षस्थ व्यक्ति का स्थान;
  श्रम सौव्रत्य व सत्य सौश्रवस हेतु सदैव रिक्त व प्रज्ञप्तित होता है....."

Thursday, 7 June 2012

----- || DAND KA MAAPDAND || -----

" भ्रष्टाचार स्वयंसिद्धापराध है जिस पर दण्डारोपन के परिमाण का प्रारूप इस
  प्रकार से हो की अपराधी न्यूनतम 6 माह व उच्चतम 7 वर्ष के सश्रम या
  साधारण कारावास सहित सदोष अर्जन के अधिग्रहण या 'जब्तीकरण' के
  सह अर्थदण्ड का भागीदार हो.."


   किन्तु  :--
" भ्रष्टाचरण स्वरूप आपराधिक सदोष अर्जन के परिमित ही दण्ड का मापदण्ड हो
  जहां अपराधी के ऐसे सदोष अर्जन का दुरुपयोग स्वयं अथवा अन्य द्वारा ऐसा
  कार्य जो किसी व्यक्ति या किन्ही व्यक्तियों की मृत्यु कारित करने के आशय से
  अथवा ऐसे कार्य का रुपान्तरण राष्ट्र में आतंक कारित करने के षड़यत्र स्वरूप
  यथास्थित ह्त्या या सामूहिक ह्त्या कारित करने का अभिसंधान हो वहां ऐसे
  अपराध के दण्ड का परिमाण वही हो जो ऐसे अपराध हेतु  दंडात्मक परिमेय
  का निर्धारण भा.दं.सं. में है....."



" धन की परिक्रमा पर्यंत व गति शिथिल होती है,
  ज्ञान की परिक्रमा अनंत व गति प्रतन्य होती है....."
                                                     -- सनद रहे


  

Thursday, 31 May 2012

'' BHRASHTAACHAARI PAR DANDAAROPAN''

'' भ्रष्टाचार के अपराध में दंडारोपण किस प्रकार होना चाहिए..??""


" चूँकि आर्थिक भ्रष्टाचार के अपराध का सम्बन्ध सीधे आर्थिक दुराचरण से है अत: प्रथमत:
   भ्रष्टाचार के आरोपी पर दोषपूर्ण अर्जन की परिष्टि उपरांत विधिविरुद्ध एवं अवैधानिक
   संपत्ति का अधिग्रहण अथवा 'जब्तीकरण' की कार्यवाही का अनुकरण होना चाहिए, किन्तु
   जहां दोषपूर्ण अर्जन किसी पद्विशेष के समुन्नयन हेतु या  अन्य सदोष समुन्नयन के हेतुक
   है वहां ऐसे पद्विशेष का समुचित परिक्षणोपरांत पदच्युत अथवा तत्संबंधित कार्यवाही हेतु
   अग्रसर होना चाहिए.."
                                  यदि अपराधी ने सदोष समुन्नयन का प्रयोजन स्वयं अथवा अन्य के
   हेतु किया है तब इसकी क्षतिपूर्ति सह समायोजन अपराधी के वैध अर्जन से होना चाहिए.."
       
----------------------------------------------------------------------------------------------
----------------------------------------------------------------------------------------------

 " जहां प्रकट स्वरूप दोषयुक्त अभिलाभ सुनिश्चित हो,
   वहां निश्चय ही दोषयुक्त हानि होगी.."

" जहां न्यूनतम सदोष अभिलाभ हो..,
  वहां उच्चतम सदोष हानि हो सकती है.."

" जहां उच्चतम सदोष अभिलाभ हो..,
  वहां न्यूनतम सदोष हानि होगी.."

" जहां न्यूनतम अथवा उच्चतम सदोष अभिलाभ हो..,
  वहां न्यूनतम अथवा उच्चतम सदोष हानि होगी.."

  अत: दंडारोपण भी अनुपातिक होना चाहिए.."
--------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------
" यदि अपराधी ने सदोष अर्जन का प्रयोजन दोहरे सदोष अर्जन हेतु किया है
  तब ऐसे दोहरे सदोष अभिलाभ का अधिग्रहण अथवा 'जब्तीकरण' होना
  चाहिए किन्तु यदि ऐसे सदोष अर्जन का प्रयोजन के कार्यत: अपराधी को
  कोई हानि हो तब ऐसी हानि की क्षतिपूर्ति उसके वैध अर्जन से समायोजित
 होगी कारण की यह सदोष अर्जन हानिवाहक की संपत्ति थी व प्रयोजन हानि-
 वाहक की अनुज्ञा के रहित था.."
---------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------

  








  


Wednesday, 30 May 2012

'' Sanvidhaan Sudhaatra Anusandhaan Akaansh ''

'' लोकतंत्र का अर्थ व उद्देश्य;--
  -- वंशवाद का बहिष्करण
  -- जन सामान्य का सर्वोच्च प्रतिनिधित्व 
  -- न्यायिक समानता
  -- सामाजिक समरूपता 
  -- अविच्छिन्न स्वराष्ट्र


'' जाति, धर्म, वर्ण के समुच्चय के उत्थापन से युक्त सम्यक  
  व सुव्यवस्थित न्याय के फलीभूत जनसामान्य का निम्नोच्च 
  प्रतिनिधित्व का सर्वोत्क्रित उद्देश्य एवं समग्रविषयिक स्वराष्ट्र 
  एक निश्चित सीमा में संन्नियन्त्र संविधानिक संस्था का अंगीकरण 
  के कर्मत: अविच्छीन्य राष्ट्र की परिकल्पना ही लोकतंत्ह....."  



'' लोकतंत्र की परिकल्पना की व्युत्पत्ति संभवतया वंशवाद के 
  विरोध के कर्मतस हुई होगी..''
  

'' स्वतन्त्र  न्यायपालिका, कार्यपालिका से दृढ़संधि न करते हुवे
   दाप, दाब, दाय,द्रव्य व दिव्यव्यक्तित्व से प्रभावशुन्य हो सर्वतस-
   सम,निर्विशेष दण्डपाश व न्यायप्रस्तुता के परिरक्ष्य हो संविधान
   को परिदृढ एवं चुस्त व पुष्ट कर सकती है..''


'' पृथ्वी-प्रथम;--
  जनता यदि कतिपय 'लेकिन, किन्तु, परन्तु' के अन्यतम दलरहित
  प्रत्याशी का चुनाव सर्वप्रथम करे तत्पश्चात चयनित प्रत्याशी दल का
  चुनाव करें यथाक्रम दल के सदस्यों की निर्धारित संख्या में चुने गए
  प्रत्याशियों की सहभागिता अर्द्धाधिक हो तदनंतर अर्द्धाधिक चयनित
  प्रत्याशी दल का चुनाव करे जिसके सादृश्य जहां द्वीगुण्य दृष्टांत की
  आकृति समरूप चुनाव प्रणाली अधिक पारदर्शी होगी वहीं 'धन' 'बल'
  का प्रभाव संभवतया न्यूनतम होगा कारण कि 'धन' 'बल' का अधिकाधिक
  दुरुपयोग प्रत्याशी के अन्यतस दल के प्रचार हेतु होता है
                            तथानुक्रम एकात्म दल के प्रभुत्व/वर्चस्व की समाप्ति के
 साथ ही वंशवाद से भी जनता निर्मुक्त होगी; इसका प्रयोग-परिक्षण विधायिका
 चुनाव में किया जा सकता है..''
                     

'' पारदर्शी चुनाव प्रणाली, पारदर्शी व सुदृढ़ संविधान की द्योतक है;
  पारदर्शी संविधान,पारदर्शी व सुदृढ़ लोकतंत्र का सूचक है..''


'' राजतांत्रिक प्रणाली में बलात्सत्तापहरण के निमित्त 'राजा' परस्पर
  'लड़ाई' अथवा 'युद्ध' करते थे,
                        लोकतंत्र में जहां प्रत्याशी सेवाभृत/सेवाधारी स्वरूप
  चयन हेतु स्वयं को जनता के समक्ष प्रस्तुत करता है वहां चुनाव के
  सह 'लड़ाई' अथवा 'लड़ना' जैसे शब्दों का प्रयोग समझ से परे है, स्व-
  तंत्रता प्राप्ति के पश्चात भारतीय लोकतंत्र में 'दलानुवंश' के अन्तया
  'दलपुत्र' के रुपान्वित विचित्र प्रकार के वंशवाद का प्रादुर्भाव हुवा....."





 









Sunday, 27 May 2012

''Gadhabadhajhaalaa'' Athavaa ''gaddamgol''

भ्रष्टाचार विधि के हननातिक्रमण से उत्पन्न ऐसा अपकर्म 
जो दोषपूर्ण अर्जन का अभ्यक्ष-भक्षण के कृत्य को दूषित 
आचरण के द्वारा आपराधिक दुष्कर्म में प्रवृत कर दे..'


अन्य आर्थिक अनियमितताओं  के अंतर्गत 
'गढ़बढ़झाला' अथवा 'गड्डमगोल' क्या है..


लोक सेवक अथवा लोक सेवक से  भिन्न कोई 'व्यक्ति' जो सेवा नियोगी/गिन हो 
अथवा नियोग विहीन हो, कार्य विशेष के सम्पादन हेतु जहां विनिर्दिष्ट 
चल/अचल सम्पत्ति के योजन प्रबंधन हेतुक नियोजित, नियुक्तिक, निर्वाचित, 
निष्पत्तित हो, वहां ऐसे कार्य विशेष के सम्पादन में स्वयं अथवा अन्य व्यक्ति 
हेतु..


'' सदोषाधिरोप या सदोषाधिरोपण का कृत्य..''



दुर्विनियोजन/दुर्विनियुक्त जो स्वयं के अन्यथा किसी अन्य व्यक्ति को कार्य निष्पादन 
हेतु दोषपूर्ण विनियोजन/विनियुक्ति अथवा सदोषाधिक्रमण का कृत्य..,



दुर्विनियोज्य जहां सम्पत्ति का स्वयं अथवा अन्य 'व्यक्ति' के उपयोग हेतु दोषपूर्ण 
परिवर्तन अथवा ऐसी सम्पत्ति को विनिर्दिष्ट उद्देश्यों के अन्यथा उपयोग का
दोषपूर्ण कृत्य..,


'' दुर्विन्यसन व दुर्विचालन जहां विनिर्दिष्ट सम्पत्ति के कार्य सम्पादन में स्वयं 
  अथवा अन्य 'व्यक्ति' हेतु दोषपूर्ण अर्जन के कर्मत; अन्य की चल/अचल 
  सम्पत्ति पर सदोषाधिचरण व सदोषाध्यासन अथवा सदोष विचालन का कृत्य..,


जहां कार्य विशेष के सम्पादन के उद्देश्य हेतु सम्पत्ति की विक्रय प्रक्रिया में 
निर्धारित दर से अधिगणन/अधिमूल्य/अधिशुल्क का कृत्य अथवा ऐसे दोष-
पूर्ण अर्जन का अधिहरण/अधियाना अथवा विनिर्दिष्ट सम्पत्ति के निर्माण कार्य के 
प्रयोजन वैधरूप से अधियुक्त व्यक्ति के वैध अर्जन का अधिहरण/अधियाने का कृत्य..,


जहां विनिर्दिष्ट सम्पत्ति में स्वयं अथवा अन्य हेतु उद्देश्यविपरीत अधिष्ढान, 
adhishdhaapan, अध्यासन अथवा विधिविरुद्ध अधियोजन में adhishdhit
करने का कृत्य..''



















Sunday, 20 May 2012

प्रश्न है भ्रष्टाचार के क्रियाकार कौन कौन से है..??


 "  भ्रष्टाचार के क्रियाकार 
--'उत्कोच'अथवा 'प्राभृत' 
--'घपला' व 'घोटाला'
--'कर्त्तव्य विमुखता'
--'अन्य आर्थिक अनियमितता'
--'कर अपवंचन' व 'अघोषित आय'.."


"  उत्कोच:--
   लोक सेवक अथवा लोकसेवक से भिन्न कोई व्यक्ति जो सेवा नियोगी (गिन)
   या नियोग विहीन हो स्वयं अथवा अन्य व्यक्ति हेतु अपवंचन के आशय से जहां 
   दोषपूर्ण अर्जन के कार्यत: वैध-अवैध किन्तु दोषपूर्ण कार्याकार्य के विनिमय
   का क्रियाभ्युपगम एवं ऐसा दोषपूर्ण क्रियान्वय का प्रयोग किसी व्यक्ति के पक्ष-
   विपक्ष में व उसके अनुरत-विरत में करता है वहां ऐसे दोषपूर्ण अर्जन के समुन्नयन
   का प्रयोजन व सन्निधान एवं सदोष सन्निवेश का कर्ता, कर्तृत्व, कारयिता,
   उत्कोच अथवा प्राभृत का अपराधी है.."


"  दृष्टांत 1 :--
  'अ' एक लिपिक है 'ब' को इस हेतुक मद्य परोसता है कि वह रु. दस करोड़ 
  मूल्य के पंक्तिपत्र  को कार्य-करण में त्रुटियों को अनदेखा कर उसपर हस्ताक्षर
  कर दे 'अ' एवं 'ब' कार्य-कारण विपर्यन दोष के सह,  उत्कोच के अपराधी है..,\


"  दृष्टांत 2:--
  'अ' एक विशिष्ट व्यक्तित्व का स्वामी व समाज का सम्मानित व धनिक व्यक्ति है 
  'ब' एक लोकसेवक है जो 'अ' के पक्ष में इस हेतुक दोषपूर्ण कार्याकार्य करता है
   कि 'ब' 'अ' के सह सदोष सन्निवेश करता है, 'अ' व 'ब' उत्कोच का अपराधी है.."


" घोटाला:--
  लोक सेवक अथवा भिन्न कोई व्यक्ति, शासकीय अर्धशासकीय अशासकीय,
  निकाय, इकाई, संस्था, संगढन, समिति निगम, केंद्र, न्यास, अर्धन्यास जो
  किसी संपत्ति(चल-अचल) के योजन अथवा प्रबंधन का  स्वामि-सेवक स्वरूप
  निर्वाचित, योजित- नियोजित, नियुक्तिक, निष्पत्तित नियोगी (गिन) अथवा
  नियोग विहीन हो जो स्वयं अथवा अन्य हेतुक 'हड़पकर' 'अपवंचन' के आशय
  से उक्त संपत्ति का कोई अंश अथवा सम्पूर्ण संपत्ति के दोषपूर्ण अर्जन के कार्यत:
  वैध-अवैध किन्तु दोषपूर्ण कार्याकार्य को संविदा सहित-रहित एवं ऐसे दोषपूर्ण
  क्रियान्वयन का प्रयोग किसी व्यक्ति के पक्ष-विपक्ष में व उसके अनुरत-विरत
  में करता है वहां ऐसे दोषपूर्ण अर्जन के समुन्नयन का प्रयोजन व सन्निधान
  एवं सदोष सन्निवेश का कर्ता, कर्तृत्व, कारयिता; घोटाला का अपराधी है.."

" दृष्टांत  :--
 'अ' एकशासन है
 'ब' व्यापारिक संस्था है
 'स' 100 व्यक्तियों का समूह है
  दृश्य 1:-- 'अ' के  पास 100 आम है जिन्हें 'स' में वितरित करना है,
                 'अ' बोली के द्वारा 'ब' को रु. 500.00 लेकर वितरण संविदा करता है कि 'ब'
                  आमों को 'स' में स्वयं के साधन से वितरण करे. अब 'ब' रु.6.00 प्रति आम
                  की दर से 'स' को विक्रय करता है, इधर 'अ' जो की एकशासन है उक्त रु.500.00
                  'स' को दुप्रशासन में रु.100.00 व्यय कर रु. 4.00 प्रति व्यक्ति की दर से उप-
                   लब्ध करवा कर विद्यमान आय में रु. 4.00 की वृद्धि करता है, 'स' का प्रत्येक 
                   व्यक्ति, 4.00 + रू 2.00(स्वयं की विद्यमान आय से) = कुल रु. 6.00 में आम 
                   को सरलता से क्रय कर लेता है..,

 दृश्य 2 :--  'अ' उन्हीं 100 आमों को बोली के द्वारा मात्र रु. 100.00 लेकर 'स' के लिए 'ब'
                   को बोली के द्वारा आमों को स्वयं की साधन से वितरित करने की संविदा 
                   करता है किन्तु आम की वास्तविक मूल्य रु. 500.00 है शेष रु. 400.00 में 
                   से रु. 200.00 का दोषपूर्ण अर्जन  करते हुवे 'ब' से सदोष संविदा का कार्य 
                   करता है. अब 'ब' रु. 5.00 प्रति आम की दर से 'स' को विक्रय करता है, 
                   इधर 'अ' जो की एकशासन है उक्त रु.100.00 'स' को दुप्रशासन में अन्य स्त्रोत से 
                   रु.10 व्यय कर रु.1.00 प्रति व्यक्ति की दर से उपलब्ध करा कर विद्यमान 
                   आय में मात्र रु.1.00 की वृद्धि करता है, 'स' का प्रत्येक व्यक्ति 1.00 + 4.00
                   ( स्वयं की विद्यमान आय से) = कुल रु.5.00 में आम को कढीनता से क्रय 
                   करता है, 'अ' व 'ब' घोटाले के अपराधि हैं.."

निष्कर्ष1 :-- दृश्य 1 में यद्यपि 'स' को आम महँगा मिलेगा किन्तु आय में वृद्धि के फलत:
                  उसे अपनी विद्यमान आय से रु. 2.00 व्यय करना पढ़ेगा.
                  दृश्य 2 में आम रु.1.00 सस्ता है किन्तु 'स' को अपनी विद्यमान आय से रु. 
                  4.00 देने होंगें 
निष्कर्ष2:-- दृश्य 1 में 'ब' को रु.100.00 का वैध लाभार्जन होता है.
                  दृश्य 2 में 'अ' व 'ब' रु.200.00-200.00 का दोषपूर्ण अर्जन करते हैं 
                  'स' को रु. 4.00 प्रति आम की दर से कुल रु.400 की सदोष हानि 
                  होती है साथ में रु.100  अन्य स्त्रोत से सदोष हानि होती है 
                   ( यदि दुप्रशासन से घोटाला न हो तो )..,


" घपला व घोटाला में अंतर करना कढीन है सामान्यत: घपला, घोटाला का लघुरूप है
  चल-अचल संपत्ति का ऐसा दोषपूर्ण अर्जन जो घोटाला की अपेक्षा निर्धारित मूल्य में
  लघुत्तम हो घपला का अपराध होगा.."


 " लोकसेवक अथवा लोकसेवक से भिन्न कोई व्यक्ति या शासकीय अशासकीय अर्धशासकीय
   अधिकारानिक निकाय, इकाई, संस्था, समिति, संगढन, निगम, केंद्र, न्यास, अर्धन्यास  के
   स्वामी अथवा संचालक द्वारा अथवा उसके अधीन नियोजित, निष्पत्तित, नियुक्तिक वैधानिक
   सेवा नियोगी(गिन) हो अथवा नियोग की अवस्था में यदि वह कर्त्तव्य निर्वहन में विधेयाविमर्ष,
   विनीग्रह, निर्मर्याद, निर्मर्यादावधि व दोषपूर्ण कार्याकार्य इस हेतुक की जिसके कार्यत: स्वयं को
   अथवा अन्य व्यक्ति को कपटपूर्ण आशय से ओश्पूर्ण अर्जन का समुन्नयन व सन्निधान का
   कर्ता, कर्तृत्व, कारयिता हो;  कर्तव्य विमुखता का अपराधी होगा.."



" विधेयाविमर्ष:--
  'लोकसेवक' अथवा 'लोकसेवक' से भिन्न कोई 'व्यक्ति' जो कोई भी धर्म, संस्कृति, समाज, राष्ट्र
  उपराष्ट्र एवं तत्संबंधित निर्मित-निर्माणाधीन विधि-विधान का रचनात्मक निरूपण-विरूपण,
  मौखिक-लिखित व दृष्टव्य संकेत स्वरूप प्रधान उद्देश्य को छिपाते हूवे घृणा, द्वेष या उपेक्षा व 
  उत्तेजना-अनुत्तेजना सहित अपमानापकार के कृत्य का कर्ता, कर्तृत्व, कारयिता हो;
  विधेयाविमर्ष का अपराधी होगा..,

 व्याख्या:--
 घृणा, द्वेष या उपेक्षा को उत्तेजित-अनुत्तेजित करने का कृत्य-कर्तृत्व रहित अस्वीकृति, असहमति
 की प्रकट आलोचनाऍ एवं अधीनस्थ 'व्यक्ति' द्वारा विधिपूर्वक तत्संबंधित निर्मित-निर्माणाधीन
 विधि-विधान में परिवर्तन का आशय अपराध नहीं है..,

 दृष्टांत:--
 हिन्दू धार्मिक ग्रन्थ 'रामायण' व 'महाभारत' से धर्म विचार संकलन में श्री राम की एकल विवाह
 पद्धति को स्वीकृत व श्री कृष्ण की बहुविवाह पद्धति को अस्वीकृत किया गया व श्री राम द्वारा
 स्त्री त्यागाचरण को अस्वीकृत व श्री कृष्ण के स्त्री के प्रति प्रेमाचरण को स्वीकृत किया गया
 वही श्री राम-रावण युद्ध में दुष्ट को दंड व महाभारत युद्ध में परस्पर सौह्रदय्यता को सम्मिलित
 किया गया....."
                                                                                                                                   क्रमश:

 
   
         
                   
             



   
   
   




Friday, 18 May 2012

" Jivaatma Gyaan "

Happy .....:)


" जीवों का विघटन ही सत्य है..,
  जीवों का संघटन ही ब्रम्ह है..,
  जीवों का संवर्द्धन ही विष्णु है..,
  जीवों का घटक(घटन) शिव है.."
  -----सत्यम शिवम् सुन्दरम-----
 " अर्थात जीवनांत सत्य है किन्तु शिव जीवंत है, यही सुन्दर है.."


 " घटक ---> संघटन  ---> संवर्द्धन ---> विघटन ---> घटन.."


" जीव, निर्जीव का संघटक है..,
  निर्जीव, जीव  का विघटक है.."


" जीव यन्त्र  मात्र है,
  आत्मा, जीव  में सत्तत्त्व स्वरूप स्थित है.."


" आत्मा, देह में संघटन स्वरूप है..,
  मृत्यु के पश्चात यह विघटित हो द्रव्य की आकृति ग्रहण करती है..,
        देह = पृथ्वी + अग्नि + जल..,
  आत्मा = वायु + आकाश.."


" धर्मकर्म के गुण आत्मतत्त्व की प्रकृति को निर्धारित करते है..,
  धनकर्म के गण आत्मतत्त्व की दुष्कृति को निर्धारित करते है.."


" पृथ्वी + अग्नि + जल + वायु + आकाश (अर्थात शुन्य ) = देह..,
  पृथ्वी * अग्नि * जल * वायु * आकाश (अर्थात शुन्य ) = शुन्य अर्थात आकाश अर्थात मोक्ष....."











Monday, 14 May 2012

" Bhrashtaachaar Ke Krityakaar"

भ्रष्टाचार के कृत्यकार कौन कौन हो सकते है..??


" भारतीय दंड संहिता 1860 की
  धारा 11 के अंतर्गत 'व्यक्ति'
  धारा 12 के अंतर्गत 'लोक'
  धारा 17 के अंतर्गत 'सरकार'
  धारा 19 के अंतर्गत 'न्यायाधीश'
  धारा 21 के अंतर्गत 'लोकसेवक'


  लोक सेवक से तात्पर्य:--
" प्रथमतम प्रत्येक प्रस्तरों पर जनता द्वारा प्रत्यक्ष,अप्रत्यक्ष रूप से 
  निर्वाचित व्यक्ति जो वैधानिक सेवा नियोगी(गिन) हो अथवा नियोग 
  विहीन हो; द्वितियक शासन-प्रशासन द्वारा प्रत्येक स्तरों पर नियोजित,
  नियुक्तिक, निष्पत्तिक, आधिकरणिक व्यक्ति जो सेवा कर्मण्या के 
  प्रयोजन हो अथवा निष्प्रयोजन हो लोकसेवक संदर्भित है.."


" शासकीय, अर्धशासकीय, अशासकीय, आधिकरणिक निकाय, इकाई,
  संस्था, संगढन, समिति, न्यास, अर्धन्यास के स्वामी, संचालक के 
  आधिकरणिक व्यक्ति जो सेवा नियोगी(गिन) हो अथवा नियोग विहीन   
  द्वारा अथवा इसके अधीन निर्वाचित   नियोजित, नियुक्तिक, निष्पत्तित,
  हो, भ्रष्टाचार के अपराध के कर्ता, कर्तृत्व,कारयिता अथवा उत्प्रेरित,
  उत्प्रेरक हो सकते है.."


" अपराध की गंभीरता दृष्टिगत रखते हुवे एवं यह द्रष्टांकित करते हुवे 
  कि 'भारत एक है' उपबंधों के प्रावधान जम्मू एवं काश्मीर के भारतीय 
  नागरिक, भारत के अन्दर अल्पवासी अथवा दिर्घवासी अनागरिक 
  भारतीय भी भ्रष्टाचार के अपराध के कर्ता, कर्तृत्व, कारयिता हो 
  सकते है.."


" सर्वोच्च सत्ताधारी, विदेशी सर्वोच्च सत्ताधारी, राजदूत, विदेशी शत्रु,
  विदेशी सेनाएं, युद्धपोत, अंतर्राष्ट्रीय संस्थाएं भी भ्रष्टाचार के अपराध
  के कर्ता, कर्तृत्व, कारयिता हो सकते है.."


" उन प्रकरणों के अतिरिक्त जहां आतंरिक सुरक्षा सेवक जब की ऐसे 
  आपराधिक कृत्यों की परिष्टि हेतु स्वयं अधिकृत हों, भ्रष्टाचार अथवा 
  कोई भी अपराध, आपराधिक कृत्य ना होकर तब तक एक सामाजिक
  कुरीति भर है जब तक की पीडित पक्ष न्याय की शरण न ले.."


" भ्रष्टाचार का अपराध अधिक गंभीर हो जाता है, जब वह प्रचारित व 
  अधिकाधिक व्यवहारिक हो जाए.."








  



  

Sunday, 13 May 2012

" Vikaraal Bhrashtaachaar"

" सृष्टि ने भवभूति का सृजन कदाचित यथेष्ट 
  सुख प्रयोजन हेतु किया है किन्तु त्याग 
  में ही जीवन का सार है.."


" समस्त आत्मानात्म सृष्टि का कोष है,
  सृष्टि का कोष जीवन का कोष है.."


" प्राकृतिक संसाधन, यथेष्ट सुखमय व 
  संतुलित जीवन के निमित्त है, न की 
  भोग विलास हेतुक.."


" सुख व भोग विलास सन्निकट है,
  लक्ष्मी व माया के;
  लक्ष्मी से सुख की प्राप्ती होती है,
  माया से भोग विलास की.."


" प्राकृतिक संसाधनों का अनावश्यक दोहन सदैव 
  भोग विलास हेतु ही होता है,
  भोग विलासित जीवन का आरम्भ सुखमय 
  जीवन की मर्यादारेख लांघ कर होता है.."


  तात्पर्य है:--
" प्राकृतिक संसाधनों का दोहन मानव, भुत्निर्मित विकास के तदर्थ 
  उत्खात खनिज द्रव्य को मुद्रा सह भुक्तभूति में परिणीत करता है,
  किन्तु यदार्थ परिणति का दोषपूर्ण अर्जन सह संचयन होने लगता है.
                      परिणाम स्वरूप एतत कतिपय क्षेत्रों में आधारभूत 
  सुविधा साधन की न्युनता के कारक होते है, तदनुरूप इन न्युनताओं   
  की पूर्णता हेतु नवीन ऑद्योगिक इकाईयों की स्थापना की आवश्यकता 
  होने लगती है जो मूलत: उत्खनन आधारित होती है इस तरह यह  
  कुचक्र का रूप धारण कर रहा है जो दोषपूर्ण अर्जन सह संचयन पर 
  अंकुश लगने पर ही स्थिर हो सकता है 
                       एतेव भ्रष्टाचार का आकार संक्षिप्त है किन्तु इसकी 
  आकृति न केवल विकराल है अपितु अनावश्यक दोहन के परिमित 
  में भविष्यत् हेतु प्रलयंकारी विनाश का कारक सिद्ध हो सकता है.."


" सम्पूर्ण विश्व में( भारत में अधिकतम) यदि प्राकृतिक संसाधनों के 
  दोहन की परिमाणीक लब्धि का सम्यक वितरण होता तब न केवल 
  भारतीय अपितु विश्व का प्रत्येक व्यक्ति लब्धमान हो आधारभूत 
  सुविधा से कहीं अधिक साधन का सन्निधि होता....."