Tuesday, 14 April 2015

----- ॥ दोहा-पद॥ -----



धरा जले धारा जले , जले जले जल धारि । 

जलज जले जलगा जले जले जले जलहारि ॥ 

जलेतन जरेंधन जले जल जल झरे चिँगारी ॥ 
जरख़र धान जरत करे चहुँ पुर हाहाकारि । 


जलगिरि उपल उपल जले जले जले ररिहारि । 
अम्बरतल पलपल जरत कातर रहे निहारी ॥ 

द्रु दल जरे द्रुम दल जलत , करे गहन गोहारि । 
धनबन घन स्याम करे बरसो गगन बिहारि ॥ 

द्रोन कलस साँकल भरे , जर सत सार सँवारि । 
जलधि जरे जलद जल धरे झर झर झर झर झारि ॥ 

5 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 16-4-2015 को चर्चा मंच पर चर्चा - 1948 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  2. धनबन घन स्याम करे बरसो गगन बिहारि...बहुत बढ़ि‍या दोहा

    ReplyDelete
  3. द्रोन कलस साँकल भरे , जर सत सार सँवारि ।
    जलधि जरे जलद जल धरे झर झर झर झर झारि ॥
    ..बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति .बहुत खूब,.आपका ब्लॉग देखा मैने कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    ReplyDelete